680 करोड़ रुपए का फरवरी में हो सकता है भूमि पूजन

Advertisements

जबलपुर। दमोहनाका-मदनमहल के बीच बनने वाले 4.5 किमी के फ्लाईओवर के लिए अतिक्रमण बड़ी समस्या बनकर उभर रहा है। लोक निर्माण विभाग को मौजूदा डिजाइन के हिसाब से 120 फीट चौड़ी सड़क चाहिए। इतनी जगह के लिए करीब 175 मकान-दुकान को पीछे खिसकाना होगा। नगर निगम को ये कब्जे तोडऩे हैं। लोक निर्माण विभाग दो दफा कार्रवाई के लिए पत्र लिख चुका है। अभी तक कब्जे नहीं टूटे हैं। इधर फरवरी के पहले हफ्ते में फ्लाईओवर के निर्माण का काम शुरू होने की उम्मीद है। सांसद राकेश सिंह लोकसभा चुनाव में विकास की बडी उपलब्धि के तौर पर इस काम को गिनवाने के लिए जल्द शुभारंभ करवाने में जुटे हैं।
दमोहनाका से मदनमहल के बीच फ्लाईओवर की जरूरत के हिसाब से जमीन उपलब्ध है। कई जगह कब्जे सड़क के काफी करीब होने से दिक्कत आ रही है। इसमें रानीताल के करीब, गेट नंबर 4 के पास, मदनमहल, दमोहनाका, आगाचौक, बल्देवबाग वाले इलाकों में सबसे ज्यादा कब्जे हटाने हैं। फ्लाईओवर के नीचे सर्विस लाइन सड़क के दोनों तरफ चौड़ाई 7-7 मीटर होगी। जबकि फ्लाईओवर की स?क 12.9 मीटर की चौड़ी होगी।
फ्लाईओवर करीब 4.5 किमी लंबा होगा। इसमें अंडरग्राउंड पावर सप्लाई देने के लिए 2.5 मीटर की बिजली डक्ट ब्रिज के दोनों साइड बनी होगी। अहमदाबाद की कंस्ट्रक्शन कंपनी रंजीत बिल्डकॉन को फ्लाईओवर निर्माण का काम मिला है।
कैसा होगा फ्लाई ओवर का निर्माण
-दमोहनाका से एलआईसी मदनमहल के करीब फ्लाईओवर उतरेगा।
बिजली के खंभों की पॉवर लाइन अंडरग्राउंड होगी।
फ्लाईओवर के बीच में 4 जगह पर लेग होगा। जहां से लोग उतर-चढ़ पाएंगे। दो लेग स्नेहनगर फ्लेटफार्म नंबर 3 के पास। एक महानद्दा की ओर। महाराष्ट्र हाईस्कूल की ओर एक लाइन उतरेगी।
मदन महन स्टेशन के ऊपर 193 मीटर लंबा केबिल स्टे ब्रिज का निर्माण होगा। जो फ्लाईओवर को दोनो ओर से लिंक करेगा। भोपाल और मुबंई की तर्ज पर बने केबिल स्टे ब्रिज जैसा ही ब्रिज बनाया जाएगा
उपलब्धि भुनाना भी तो है
लोकसभा चुनाव नजदीक है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद राकेश सिंह इसे मौजूदा कार्यकाल की बड़ी उपलब्धि के तौर पर गिनाने का प्रयास करेंगे। कार्यकर्ता भी चुनाव से पहले फ्लाईओवर का जमीनी स्तर पर काम शुरू करवाना चाहते हैं ताकि चुनाव के वक्त जनता को उपलब्धि बताई जा सके। मप्र में सबसे लंबा फ्लाईओवर जबलपुर का होगा।
.

Advertisements