शहर फिर शीत लहर की चपेट में

जबलपुर,यभाप्र। अंचल में फिर शीतलहर ने लोगों को बेहाल कर दिया है। मकर संक्राति के मौके पर परम्परागत रुप से चल रही शीत लहर से लोग कंपकपा रहे हैं। दिन में कुछ कम ठंडी हवाएं चल रही हैं लेकिन रात के समय जरुर ठंडी हवाओं का असर तेज हो जाता है। इस शीत लहर के असर के चलते बच्चे और बुजुर्ग ज्यादा ठिठुर रहे हैं। उत्तरी सर्द हवाओं से लोगों की दिनचर्या भी बदल गई है। बाजारों में गरम वस्तुओं की मांग भी बड़ गई। मौसम परिवर्तन के चलते सभी लोग ऊनी वस्त्र पहनकर घूम रहे है। ठंडी हवा के चलते तापमान में गिरावट आई है। सर्द हवाओं से फिजा में ठंडक घुल गई है। लोग सर्दी से बचने के लिए तरह-तरह के जतन कर रहे हैं। ठंड के तेवर बढऩे से लोगों में गरम पदार्थों की मांग अधिक हो गई है। होटलों पर गरम चाय, जलेबी, इमरती, आलूबड़े, समोसे आदि की मांग अधिक हो गई है। शहर की ऊनी वस्त्रों की दुकानों पर भी चहल-पहल अधिक दिख रही है। रात्रि में लोग अलाव जलाकर ठंड से बचने का प्रयास कर रहे हैं। मौसम विभाग के वैज्ञानिक सहायक देवेन्द्र तिवारी के अनुसार दिन और रात के तापमान में काफी कमी आई है। न्यूनतम तापमान जहां 5 डिग्री से.नीचे गिर कर 5.4 पर जा पहुचा है और इसके गुरवार को 4 डिसे तक जाने की संभावना है। जबकि अधिकतम तापमान दो डिसे गिरकर 21.8 डिग्री पर दर्ज कि या गया है। अंचल शीतलहर की चपेेट में हैं। उन्होने बताया कि अभी एक दो दिन और ठंड का असर ज्यादा रहेगा। आसमान पूरी तरह से साफ होने के कारण सुबह से सूर्य देव ने अपना असर दिखाना शुरु कर दिया था। फिर भी ठंड का असर कम नहीं हुआ। शहर में अनेक स्थानों पर अलाव जला रहे हैं। तेज ठंड के असर से निपटने के लिए लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं।