गिर गाय के दूध में पाये जाते हैं सोने के तत्व

गोपाल पुरस्कार मे बोले एसडीएम
जबलपुर नगर संवाददाता। गिर गाय कर दूध अमृत जैसा होता है क्योंकि इसमें अमीनों एसिड होता है आयुर्वेंदिक परंपरा के अनुसार इस गाय का दूध बच्चों के मस्तिक विकास के साथ साथ इसमें सोने के तत्व भी पाये जाते हैं। उक्त उद्गार पाटन तहसील के बिनैकी ग्राम में विकासखंड स्तरीय पर आयोजित एक गोपाल पुरस्कार के दौरान एसडीएम अनुराग तिवारी ने गो पालकों के समछ व्यक्त किये उन्होंने कहा कि इस गाय के दूध के संबंध में आगें कहा कि गिर गाय के दूध में 25 प्रकार के पोषक तत्व भी होते है। कार्यक्रम में पाटन पशु चिकित्सालय के डॉ. गोपाल बालानी ने भी इस गाय के महत्व के संबंध मेे जानकारी दी। उन्होंने कहा कि गुजरात की गिर गाय जो भारतीय गोवंश है जो अन्य गायों की अपेछा अधिक दूध देती है इसी तरह से भारतीय नस्लों मे बढ़ावा देने के लिये शासन द्वारा गोपाल पुरस्कार दिये जा रहे है इसी तारतम्य में गत दिवस पाटन विकास खंड के बिनैकी ग्राम पंचायत में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें गिर गाय के पालकों को अलग अलग 25 हजार के पुरस्कार दिये गये। उक्त कार्यक्रम के मुख्यअतिथि पाटन एसडीएम अनुराग तिवारी एवं जनपद उपाध्यक्ष आनंद मोहन पलहा व वि.खंड के स्थाई सभापति ब्रजेश पटेल की मौजूदगी में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम मे गिर गाय के पालक टिमरी निवासी पं.शंकर दुबे की गाय जो 12 लीटर दूध प्रतिदिन देती है को 10 हजार का पुरस्कार एवं वसंत यादव को 7500 व भैंस का 13 लीटर दूध देने वाले पालक अनिल विश्वकर्मा को भैेंस पाहन में 10 हजार एवं बिक्रम सिंह को 7500 का पुरस्कार दिये गये इसके साथ ही अन्य गिर गाय के पालकों को 5-5 हजार की राशि भी पुरस्कार स्वरूप प्रदान की गई इनकी राशि सीधे खाते मे जमा होगी। उक्त कार्य्रकम में पाटन विकास खंड के पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ.गोपाल बालानी,नुनसर से विजय विश्वकर्मा एवं कटंगी से अजय अग्रवाल सहित अन्य ग्रामीणजन उपस्थित रहे।
15,16 को जिला स्तरीय कार्यक्रम
इस संबंध मेें डॉ.बालानी ने जानकारी देते हुये बताया कि विकासखंड स्तरीय आयोजन के बाद अब आगामी 14,15 एवं 16 को गिर गाय के दूध की उपयोगिता के संबंध में जिला स्तरीय आयोजन भी होगा जिसमेंं जिले के गिर गाय पालकों को इसके अनेेंक महत्वों पर प्रकाश डाला जायेगा। इसके उपरांत गोपाल योजना के तहत राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा जिसमें गिर गाय के पालक मौजूद रहेगें।