Advertisements

भारत ने मेलबर्न टेस्ट 137 रनों से जीता, सीरीज में 2-1 की बढ़त

मेलबर्न। भारत ने धमाकेदार प्रदर्शन कर रविवार को ऑस्ट्रेलिया को तीसरे टेस्ट मैच में 137 रनों से हरा दिया। 399 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए अंतिम दिन ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 89. 3 ओवरों में 261 रनों पर सिमट गई। मैच में 9 विकेट लेने वाले जसप्रीत बुमराह को मैन ऑफ द मैच चुना गया। भारत ने मेलबर्न में 37 साल बाद टेस्ट जीत दर्ज की। इस तरह भारत ने चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त हासिल की। भारत ने सीरीज में अपराजेय बढ़त बना ली है और बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी पर उसका कब्जा बना रहेगा। चौथा टेस्ट मैच सिडनी में 3 जनवरी से खेला जाएगा।

भारत ने पिछली बार फरवरी 1981 में मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया को 59 रनों से हराया था। भारत को यह जीत कपिलदेव की करिश्माई गेंदबाजी की वजह से मिली थी।

वर्षा की वजह से अंतिम दिन पहले सत्र में खेल नहीं हो पाया। इसके बाद जैसे ही खेल शुरू हुआ भारत को अंतिम दो विकेट लेने के लिए 4.3 ओवर लगे। ऑस्ट्रेलिया ने 258/8 से आगे खेलना शुरू किया था। बुमराह ने पैट कमिंस को स्लिप में पुजारा के हाथों झिलवाया। उन्होंने 63 रन बनाए। इसके अगले ओवर में ईशांत ने नाथन लियोन (7) को विकेटकीपर पंत के हाथों झिलवाया और ऑस्ट्रेलिया की पारी खत्म हो गई। बुमराह ने 53 रनों पर 3 और जडेजा ने 82 रनों पर 3 विकेट लिए।

कुछ ऐसा रहा इस टेस्ट मैच का हाल

भारत ने पहली पारी 7 विकेट पर 443 रन बनाकर घोषित की थी। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 151 पर सिमट गई। पहली पारी में 292 रनों की बढ़त लेने के बावजूद भारत ने ऑस्ट्रेलिया को फॉलोआन नहीं दिया। भारत ने दूसरी पारी 8 विकेट पर 106 रनों पर घोषित करते हुए मेजबान टीम के सामने 399 रनों का टारगेट रखा। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 261 रनों पर खत्म हुई।

चौथे दिन ऐसे गिरे थे ऑस्ट्रेलिया के विकेट :

विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में शुरुआत ही बिगड़ गई जब जसप्रीत बुमराह ने दूसरे ही ओवर में एरोन फिंच (3) को स्लिप में विराट कोहली के हाथों कैच कराया। मेजबान टीम को इसके बाद 33 के स्कोर पर दूसरा झटका लगा जब रवींद्र जडेजा की गेंद पर मार्कस हैरिस (13) ने शॉर्ट लेग पर मयंक अग्रवाल को कैच थमा दिया। ऑस्ट्रेलिया ने लंच के समय 2 विकेट पर 44 रन बना लिए थे। दूसरे सत्र की शुरुआत में मोहम्मद शमी ने भारत को तीसरा विकेट दिलाया जब उन्होंने उस्मान ख्वाजा (33) को एलबीडब्ल्यू किया। ख्वाजा ने रिव्यू लिया लेकिन फैसला उनके खिलाफ रहा। शॉन मार्श अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे लेकिन वे 44 रन बनाकर बुमराह की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हुए। उन्होंने रिव्यू लिया लेकिन वे बच नहीं पाए।

मिचेल मार्श के पास अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका था लेकिन वे मात्र 10 रन बनाकर जडेजा की गेंद पर कवर्स पर विराट को कैच थमा बैठे। ऑस्ट्रेलिया की आधी टीम 135 रनों में पैवेलियन में सिमट गई। ट्रेविस हेड 34 रन बनाने के बाद ईशांत की गेंद को स्टम्प पर खेल बैठे। कप्तान टिम पेन पर सारी उम्मीदें टिक गई थी लेकिन वे जडेजा की गेंद पर विकेटकीपर पंत द्वारा लपके गए। मिचेल स्टार्क 18 रन बनाकर शमी की गेंद पर बोल्ड हुए। कमिंस ने बुमराह की गेंद पर चौका लगाकर फिफ्टी पूरी की। वे 86 गेंदों में 3 चौकों और 1 छक्के की मदद से अर्द्धशतक तक पहुंचे। यह उनकी टेस्ट क्रिकेट में दूसरी फिफ्टी हैं। वे 103 गेंदों में 5 चौकों और 1 छक्के की मदद से 61 रन बनाकर नाबाद थे।

Loading...