पूर्व विधानसभा में भईयों के छुटभैयों के बीच जारी ठनाठनी

जबलपुर नगर प्रतिनिधि। भईया तुम्हारी बहुत इज्जत करते है लेकिन ज्यादा मत बोलों नही तो अपनी औकात बता दूंगा। पूर्व विधानसभा क्षेत्र में ये शब्द गूंजते कोई भी सुन सकता है। विधानसभा चुनाव के बाद भी कांग्रेस और भाजपा के कार्यकर्ताओं में बेलबाग विवाद की खुमारी अभी भी छाई हुई है। सर्द रात में फुल चार्ज ये भईया के छुटभईयों के बीच विवाद हो रहा है और दोनों पक्ष एक दूसरे को देख लेने की धमकीयां देते नजर आ रहे है।
हार के बाद भी बने सिकंदर
भाजपा की पूर्व विधानसभा क्षेत्र में हुई करारी हार के बाद भी यहां के छुटभैया नेता अपनी वजनदारी कम होना स्वीकार नही कर रहे है। उनके रौब का आलम ये है कि वे अभी भी अपनी दबंगई उसी तरह दिखा रहे है जैसे सत्ता के समय हुआ करती थी। अपने ही क्षेत्र के कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर रौब जमाएं रखने के चक्कर में ये दूसरे पक्ष के छुटभैया को धमकी देने में कोई कसर नही छोड़ते नजर आ रहे है।
छाई सत्ता की खुमारी
कांग्रेस की सत्ता की चाह इन छुटभैयों को चुनाव के दौरान ही हो गयी थी। लगातार हो रहे चुनावी संघर्ष में यह ये सोचकर अपने आपको तसल्ली दे रहे थे कि बेटा रूक जा चुनाव जीत जाने दे फिर देख कैसे जेल की हवा खिलवाता हूं। और जैसे ही कांग्रेस सत्ता में आई ये कार्यकर्ता अपने पूरे शबाब पर आ गए।
नई पीढ़ी दे रही चुनौती
पूर्व सत्ता में सत्ता की मलाई के हिस्सेदार भईया के छुटभैयों को अब वर्तमान सत्ता की नई पीढ़ी चुनौतियां देती नजर आ रही है। पुरानी पीढ़ी को ये रौब से कहते नजर आ रहे है कि भईया अब वो पहले जैसा समय नही रहा सब कुछ बदल गया है। अगर ज्यादा बकवास की तो परिणाम भुगतने तैयार हो जाना फिर ना कहना छोटे भाई गलत कर दिया।
इतने बम चलेगें कि भूल जाओगें
विवाद के दौरान बात आंतक तक भी पहुंच रही है। एक दूसरे को ये अपनी हद में रहने की चुनौती देते हुए कहते है कि अब तुम्हारी औकात दो कौड़ी की हो गई है अपनी औकात में रहो नही तो इतने बम और गोलियां चलेगीं कि गिन भी नही पाओगें।
पुलिस हमेशा की तरह असहाय
इन विवादों के बीच जब पुलिस पहुंचा करती है तो हमेशा की तरह असहाय नजर आती है। किसी भी विवादों में पडऩे से अच्छा वो मामला शांत कराने में लगे रहते है।
आशंका से भयभीत क्षेत्रवासी
इन विवादों को देखकर क्षेत्रवासी हमेशा की तरह एक बार फिर भयभीत हो रहे । ठण्ड भरी रात में गर्म ये कार्यकर्ताओं की गाली गलौज एक तो सुबह काम से जाने वाले को सोने नही दे रही वही भईयां के छुटभैयों द्वारा बमबाजी और गोलियों की बौछार करने की धमकियां भी इनकी रातों की नींद हराम कर रही है।