इस तरह दर्ज हुआ गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जबलपुर का नाम

पिछले एक पखवाड़े से चल रही थी कोशिशें
जबलपुर,यभाप्र। स्वच्छता के क्षेत्र में नगर निगम जबलपुर ने गुरुवार को विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर नया कीर्तिमान रच दिया। एक साथ साढ़े तीन लाख लोगों ने स्वच्छता से जुड़े कार्य कर यह रिकॉर्ड बनाया। गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्र्ज होते ही जबलपुर वासी गौरवान्वित हुए। महापौर डॉ श्रीमती स्वाती सदानंद गोडबोले के मार्गदर्शन और निगमायुक्त चंद्रमौलि शुक्ल के संयोजन में जबलपुर का नाम विश्व रिकॉर्ड में शामिल कराने के प्रयास शुरु हुये।गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्र्ज कराकर इतिहास बनाने की कोशिशें तो पिछले एक पखवाड़े से चल रही थी लेकिन स्वच्छता के महाअभियान के अंतिम क्षणों में महापौर डॉं. श्रीमती स्वाती सदानंद गोडबोले, स्वास्थ्य प्रभारी श्री मनप्रीत सिंह आनंद काके, एवं नगर निगम के अधिकारियों ने पूरी ताकत झोंकी। निगमायुक्त चंदमौलि शुक्ल के साथ ही अपर आयुक्त जी एस नागेश, रोहित सिंह कौशल सहित अन्य अधिकारियों ने सेक्टर और क्षेत्र के आधार पर जमीनी परिश्रम किया और अधिक से अधिक संख्या में नागरिकों की सहभागिता सुनिश्चित की।
गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड से जुड़े प्रतिनिधियों ने पूरे समय पिक थोन अभियान पर नजर बनाये रखा और उपस्थित जनसमुदाय की जानकारी अपने दस्तावेजों में दर्र्ज की। 100 से अधिक स्थलों पर 750 से अधिक संस्थानों और लाखों नागरिकों की भागीदारी के साथ एक ही समय में किये गए स्वच्छता के कार्य के आधार पर गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम ने जबलपुर नगर निगम के प्रयासों की सराहना की और नागरिकों के अभूतपूर्व उत्साह पर प्रसन्नता जाहिर की।
विश्व रिकॉर्ड का प्रमाण पत्र जारी
साढ़े तीन लाख लोगों के साथ स्वच्छता के महाअभियान का प्रमाण पत्र जारी होते ही जबलपुर का नाम विश्व रिकॉर्ड दर्ज हो गया। गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के प्रतिनिधियों ने सभी साक्ष्यों, दस्तावेजों के आधार पर जबलपुर की दावेदारी को पुख्ता माना और नगर निगम जबलपुर को विश्व रिकॉर्ड का प्रमाण पत्र जारी किया। मानस भवन स्थित स्मार्ट सिटी कार्यालय के मिनी ऑडिटोरियम में टीम ने जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में निगमायुक्त को विश्व रिकॉर्ड का प्रमाण पत्र सौंपा।