अब वेंडिंग मशीन से पानी खरीदना हुआ महंगा…

कटनी। रेलवे स्टेशन में वाटर वेंडिंग मशीनों से पानी लेना महंगा हो जाएगी। एक गिलास यानी 300 एमएल पानी के लिए अब दो रुपए देना होगा। अभी तक एक रुपया देना पड़ता था। इसी तरह कंटेनर के साथ पानी लेने पर अब 300 एमएल के 2 रुपए की जगह 3 रुपए देने होंगे। रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। आधा लीटर, एक लीटर, दो लीटर व पांच लीटर पानी की दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। रेलवे बोर्ड ने दरें बढ़ाने के संबंध में निर्देश जारी कर दिए हैं।
नई दरें इस महीने के अंत तक लागू होने की उम्मीद है। भोपाल समेत पश्चिम मध्य रेल के स्टेशनों में इंडियन रेलवे कैटरिंग एवं टूरिज्म कॉरपोरेशन आईआरसीटीसी की तरफ से वाटर वेंडिंग मशीनें लगाई गई हैं। भोपाल स्टेशन पर 11 मशीनें लगी हैं। इन मशीनों से यात्रियों को पानी दिया जाता है।
वाटर वेंडिंग मशीन लगाने वाली कंपनी की तरफ से कर्मचारी तैनात किए गए हैं, जो पानी निकाल कर देते हैं। कटनी स्टेशन में भी मशीनें लगाई गई हैं। यात्रियों को पानी मिले इसके लिए मशीनें चालू रखने के निर्देश है लेकिन ज्यादातर यह देखने में आता है कि मशीन बंद रहती हैं। कई बार यात्री गुमराह होकर पानी निकालने के लिए इन मशीनों में पांच के सिक्के भी डाल देते हैं। मशीनों में यह डिस्प्ले भी किया जा रहा है कि एक लीटर पानी लेने के लिए पांच रुपए का सुनहरे रंग का सिक्का डालें। सूत्रों ने बताया कि इन मशीनों के चलने से बोतल बंद पानी बेचने वालों को नुकसान होता है। वह नहीं चाहते कि मशीनें चलें।
जबलपुर मंडल ने बदली व्यवथा
जबलपुर मंडल के सभी बड़े स्टेशनों पर भी वाटर वेडिंग मशीनें लगाई गई हैं। यहां सुबह 10 से रात 10 बजे तक मशीनों में पानी बेचने के लिए एक कर्मचारी रहता है। इसके बाद मशीनों को क्वाइन सिक्का ऑपरेटेड कर दिया जाता है। यह भी व्यवस्था की गई है कि यात्री पांच रुपए का कोई भी सिक्का डालकर एक लीटर पानी निकाल सकते हैं।