बारिश पूर्व जिला न्यायालय की नई इमारत बनी तालाब

ड्रेनेज सिस्टम ना होने से बढी समस्या बारिश में स्थिति होगी विकराल
जबलपुर प्रतिनिधि। करोड़ो रूपयों की लागता से निर्मित जिला न्यायालय की नई इमारत में अधिवक्ताओं के बैठने की जगह बारिश के पूर्व ही तालाब बन गई है। हालत यह है कि यहां बैठने वाले अधिवक्ताओं और उनके पासआने वाले फरियादियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सुबह जब अधिवक्ता अपनी सीट पर पहुंचे तो पूरा हॉल पानी से तरबतर था जिसको देखकर वे खींझते दिखाई दिए। बिना बारिश के हॉल में पानी भरने की बात पूछने पर इनका कहना था कि इमारत में संचालित खाद्य दुकान से यह पानी लगातार रिस रहा है जिसकी शिकायत जिम्मेवारों से भी की गई लेकिन उन्होनें इस ओर ध्यान नही दिया।
ड्रेनेज सिस्टम की अनदेखी बनी समस्या
करोड़ो रूपयों की लागत से निर्मित जिला न्यायालय की इमारत देखने में तो खूबसूरत दिखाई देती है लेकिन इमारत के निर्माण मे तकनीकी पहलुओं की नजरअंदाजी की गई यहां तक की ड्रेनेज सिस्टम ना होने से पानी निकासी की समुचित व्यवस्था ना होने के कारण अब यह उपयोग हुआ पानी इमारत के अंदर ही भर रहा है।
बारिश मेे होगी भारी समस्या
ड्रेनेज सिस्टम ना होने से अब अधिवक्ताओं को बारिश का डर सता रहा है। बिना बारिश जब इमारत का यह हाल है तो बारिश के बाद स्थिति और विकराल होने की संभावना जतायी जा रही है।
फिसलन से चलना हुआ मुहाल
हॉल में भरा पानी व चिकनी फर्श के कारण अधिवक्ता और फरियादी फिसलने से घायल भी हुए इनमे ज्यादातर उम्र दराज लोग शामिल रहे जो फिसलने के कारण चोटिल हुए। घायल लोगो की संख्या बढऩे के कारण यहां जिम्मेदार अधिवक्ता यहां आने वाले लोगों को सतर्क करते नजर आए।
प्रॉपर ड्रेनेज सिस्टम के अभाव का ही परिणाम है कि ये समस्या सामने आ रही है। समय पर समाधान ना होने की स्थिति में ये समस्या और विकट होगी इस संबंध में जिम्मेवारों से चर्चा की जा रही है। और बारिश पूर्व कोई समाधान किया जा सकता है।
वरिष्ठ अधिवक्ता संपूर्ण तिवारी