इंदिरा गांधी के तीसरे पुत्र के रूप में चर्चित “कमलनाथ”, जानिए उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

भोपाल। मध्य प्रदेश के 26वें मुख्यमंत्री बनने जा रहे सांसद और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ 16वीं लोकसभा के वरिष्ठतम सदस्य रहे हैं। वरिष्ठता के चलते उन्हें प्रोटेम स्पीकर बनाया गया था। नौ बार के सांसद 72 साल के कमलनाथ गांधी परिवार के नजदीकी हैं और वे छिंदवाड़ा से ही लगातार प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

एक मई 2018 को उन्होंने मप्र कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार लेकर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय भागीदारी की शुरुआत की और संगठन को मजबूत कर 15 साल के सत्ता के वनवास को समाप्त कराया। संजय गांधी के साथ उनकी जोड़ी चर्चित रही। गांधी परिवार से नजदीकी के कारण उन्हें इंदिरा गांधी का तीसरा पुत्र कहा जाता था।

कमलनाथ ने 18 नवंबर को अपने जीवन के 72 साल पूरे किए हैं। 1973 में अलका नाथ के साथ विवाह हुआ, उनके दो पुत्र हैं। कानपुर में जन्में कमलनाथ की विद्यालयीन शिक्षा दून स्कूल में हुई, जहां गांधी परिवार के संजय गांधी उनके सहपाठी थे। कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद राजनीति में प्रवेश किया। वे कांग्रेस में मौजूदा पीढ़ी के एकमात्र ऐसे नेता हैं, जिन्होंने गांधी परिवार की तीन पीढ़ियों इंदिरा गांधी, राजीव-सोनिया और राहुल गांधी के साथ काम किया है। 2001-04 तक अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव के रूप भी जिम्मेदारी निभाई।

कई मंत्रालय का अनुभव
कमलनाथ ने अपने 38 साल के संसदीय अनुभव के दौरान कई केंद्रीय मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली। कपड़ा, वन एवं पर्यावरण, वाणिज्य और उद्योग, परिवहन एवं राजमार्ग और शहरी विकास मंत्रालयों के मंत्री के तौर पर कांग्रेस की सरकारों में काम किया। वे सबसे पहले 1980 में छिंदवाड़ा संसदीय क्षेत्र से जीते थे। 2014 तक लगातार नौवीं बार चुनाव जीत चुके हैं।

पुरस्कार और पद
– 2007 में एफडीआई मैगजीन और फाइनेंशियल टाइम्स बिजनेस का पर्सनालिटी ऑफ द ईयर।
– 2008 में ईकोनॉमिक्स टाइम्स का बिजनेस रिफॉर्म ऑफ द ईयर।
– 2012 में एशियन बिजनेस लीडरशिप फोरम अवॉर्ड 2012 का एबीएलएफ स्टेट्समैन अवॉर्ड।
– 2011 में सबसे अमीर केंद्रीय मंत्री के रूप में कमलनाथ ने 273 करोड़ की संपत्ति घोषित की
व्यावसायिक कॅरियर
– अध्यक्ष, इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नालॉजी (आईएमटी) संचालक मंडल।
– अध्यक्ष, मप्र बाल विकास परिषद।