उत्तरी हवाओं के कारण सर्दी का सितम

जबलपुर,यभाप्र। हिमालय की तराई से जिस तरह से पश्चिमी विक्षोभ आया है उससे संभाग के कई जिलों में बादल छाए हुए हैं कहीं तेज बारिया हुई तो कहीं बूंदाबांदी। आज भी कमोवेश यही स्थिति है। उत्तर से आ रही सर्द हवाओं ने ठिठुरन बढ़ा दी है। अब रात की ठंड ने भी जोर पकड़ लिया है। न्यूनतम तापमान हालांकि दो डिसे बढ़कर 12 .6 पर आ गया है। जबकि अधिकतम तापमान में हल्की गिरावट है। वहीं बादलों के कारण धूप अपना असर नहीं दिखा सकी। फिर भी सर्द हवाएं सिंतम ढा रही हैं। मौसम विज्ञानियों के अनुसार ऊपरी स्तर पर इन दिनों उत्तर दिशा से हवाएं आ रही हैं। इन हवाओं के साथ ठंडक भी पूरे अंचल में अपना असर दिखा रही है। यही कारण रहा कि लोग दिन में भी सिहरन भरी ठंड से परेशान रहे। आने वाले दिनों में उत्तरी हवाओं के जारी बने रहने के आसार जताए गए हैं। दिन के समय भी लोग गर्म कपड़े पहने हुए दिखाई दे रहे हैं। जबकि इससे पहले के दिनों में सादा कपड़ों से ही काम चल रहा था और दिन में गर्मी का एहसास हो रहा था।
फसलों के लिए शानदार मौसम
सरसों व गेहूं की फसलों के लिए यह तापमान काफी मुफीद है। सरसों व गेहूं के लिए अधिकतम तापमान 28 डिग्री होना चाहिए, लेकिन अब तापमान इससे कम है। इसलिए दोनों ही फसलों के लिए मौसम अच्छा है। जबलपुर, ,संभाग में बादल बने हुए हैं। साथ ही बूंदाबांदी या हल्की बरसात की संभावना बनी हुई है। आज मलाजख्ंाड व सिवनी में सुबह बूंदाबंादी हुई है। इस तरह की स्थिति दो दिन तक बनी रहने की संभावना है। इसके बाद बादल छंटने से दिन और रात के तापमान में गिरावट दर्ज होने लगेगी। 15 दिसंबर के बाद ठंड के तेवर तीखे होने के भी आसार हैं।