MP Election 2018 : नतीजे घोषित होने तक डटे रहें मतगणना स्थल पर: कमलनाथ

भोपाल। प्रदेश में डेढ़ दशक से सत्ता का वनवास काट रही कांग्रेस ने मतदान के बाद अब मतगणना के लिए कमर कस ली है। गुरुवार को प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ, प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और सांसद विवेक तन्खा सहित पार्टी के विशेषज्ञों ने सभी 229 प्रत्याशियों को मतगणना संबंधी टिप्स दिए।

MP Election 2018 : कांग्रेस प्रत्याशियों की पाठशाला में कांग्रेस अध्‍यक्ष ने दिए मतगणना संबंधी टिप्स।

कमलनाथ ने कहा कि नतीजे घोषित होने तक मतगणना स्थल पर डटे रहें। बेहद सतर्क और सजग रहने की जरूरत है, वकील अथवा जानकार लोगों को ही एजेंट बनाएं। मोबाइल-लेपटॉप न खुद ले जाएं, न दूसरों को ले जाने दें। शिकायतों के लिए त्रिस्तरीय लीगल कॉल सेंटर बनाए जाने की सूचना भी दी गई।

राजधानी स्थित मानस भवन में कमलनाथ, तन्खा व बाबरिया सहित कई नेता मास्टर की भूमिका में नजर आए। कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों को मतगणना संबंधी बिंदुवार जानकारियां देते हुए स्पष्ट कहा कि जो एकता कांग्रेस में अभी दिख रही है, उसकी ताकत मतगणना स्थल पर भी दिखेगी। 11 दिसंबर को यह ताकत मप्र में नया इतिहास लिखेगी।

यह चुनाव कांग्रेस-भाजपा के बीच नहीं, बल्कि जनता और भाजपा के बीच था, जिसमें कांग्रेस जनता के साथ थी। उन्होंने कहा कि सभी एजेंट मतगणना स्थल पर पूरे समय डटे रहें और नतीजे घोषित होने के बाद ही बाहर आएं। आशंका होने पर तुरंत सशक्त विरोध दर्ज कराएं, शंका का समाधान होने के बाद ही मतगणना आगे बढ़ने दें।

11 के बाद 12 दिसंबर भी आएगा

कमलनाथ ने द्विअर्थी संवाद में यह भी संदेश दिया कि मुझे उम्मीद है कि प्रशासन पूरी निष्पक्षता के साथ प्रत्याशियों की आपत्तियों का समाधान करेगा, क्योंकि उन्हें पता है कि 11 के बाद 12 दिसंबर भी आने वाला है। जब पहली बार ईवीएम का प्रयोग हुआ था, तब नियम कुछ ढीले-ढाले थे, लेकिन समय के साथ काफी बदलाव आया। हमने चुनाव आयोग से यह भी मांग की है कि हर राउंड के बाद उसकी रिजल्ट शीट दें। उस पर आरओ और प्रत्याशी के दस्तखत भी कराएं। ऐसा होने के बाद ही दूसरा राउंड शुरू होने दें।

मशीन खुलने-बंद होने की प्रक्रिया समझें: तन्खा

कांग्रेस विधि विभाग के अध्यक्ष विवेक तन्खा ने नियमों और कानून की बारीकियां समझाईं। उन्होंने कहा समय से एक-डेढ़ घंटे पहले पहुंचकर आगे कुर्सी हथिया लें। मतगणना और मशीन खुलने-बंद होने की पूरी प्रक्रिया को समझ लें।

उन्होंने पोस्टल बैलेट, वीवीपैट का महत्व, सैंपल चेकिंग के लिए लॉटरी सिस्टम, पर्चियों का मिलान और केल्कुलेशन शीट आदि की जानकारी भी दी। इस अवसर पर प्रवक्ता जेपी धनोपिया, शशांक शेखर और अजय गुप्ता ने भी जरूरी टिप्स दिए। कार्यक्रम में सुरेश पचौरी, डॉ. राजेंद्र सिंह, वरुण चोपड़ा, नरेंद्र सलूजा और भूपेंद्र गुप्ता सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी मौजूद थे।

कमलनाथ का बेहतरीन टीम वर्क

कांग्रेस के सर्वोच्च नेतृत्व कमलनाथ ने बेहतरीन टीम वर्क के साथ विधानसभा चुनाव में मेहनत की है। कांग्रेस की सरकार जरूर बनेगी, लोकसभा चुनाव में भी अच्छा असर दिखेगा।

  • दीपक बाबरिया, प्रदेश प्रभारी, मप्र कांग्रेस