भगवान की शरण में पहुंच रहे प्रत्याशी

जबलपुर, मुनप्र। आज 8 दिसम्बर है और 11 दिसम्बर को मतगणना होना है। जैसे जैसे मतगणना का समय नजदीक आता जा रहा है वैसे वैसे चुनाव मैदान में किस्मत आजमा रहे राजनैतिक दलों के प्रत्याशियों से लेकर निर्दलीय तक कुछ ज्यादा ही धार्मिक नजर आने लगे हैं। प्रत्याशी मंदिर,मस्जिद, गुरुद्वारा से लेकर जहां भागवत या दूसरे धार्मिक कार्यक्रम चल रहे हैं वहां पहुंचकर न केवल अपना माथा टेक रहे बल्कि अपने विजयी होने के लिए ऊपरवाले से प्रार्थना भी कर रहे हैं। गत शाम टीवी चैनलों पर दिखाये गए एक्जिट पोल के बाद कई प्रत्याशियों की तो न केवल नींद हराम हो गयी है बल्कि दिलों की धड़कनें भी बढ़ गयी हैं कि न जाने परिणाम क्या होता है। हालांकि चुनाव मैदान में किस्मत आजमाने वाले हर प्रत्याशी ने चुनाव प्रचार के दौरान जी-जान से मेहनत कर मतदाताओं से विजयश्री का आशीर्वाद मांगा लेकिन मतदाता के मन की बात तो 11 दिसम्बर को स्पष्ट होगी कि उसने किस प्रत्याशी को अपने वोट के लायक चुना और उसके पक्ष में मतदान किया। अभी तक तो हर प्रत्याशी और उनके समर्थक अपनी अपनी जीत के दावे करते नजर आते रहे और बाकायदा चौपाल लगाकर समीक्षा भी करते रहे लेकिन एक्जिट पोल जिस तरीके का रुझान दिखा रहे हैं उससे प्रत्याशियों की चिंता बढ़ गयी है।