Advertisements

MP Election: बागियों से निपटने के लिए BJP अपनाएंगी प्लान-बी का ये रास्ता

भोपाल: नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और चुनाव में अब कम ही वक्त बचा है, बावजूद इसके बागियों की चिंता भाजपा-कांग्रेस के लिए सिरदर्द बनी हुई है। चुनाव में दोनों ही दलों को बागी और असंतुष्ठों का खतरा दिखाई दे रहा है। दोनों ही दल अपने अपने तरीकों से इन्हें मनाने में जुटे हुए है। इसको लेकर संगठन के माथे पर भी चिंता की लकीरें उभर आई है। नामांकन वापसी की आखिरी तारीख 14 नवंबर है और इससे पहले दोनों पार्टियां अपनों की वापसी की पूरी कोशिशों में लगी हैं। जानकारी के अनुसार इनसे निपटने के लिए भाजपा-कांग्रेस ने एक स्पेशल प्लान तैयार किया है।

जहां कांग्रेस ने दिग्विजय सिंह को नाराज प्रत्याशियों को मनाने की ज़िम्मेदारी सौंपी है, वहीं बीजेपी ने भी प्लान-बी पर काम करना शुरू कर दिया है। कुल करीब 50 सीटों को बागी प्रभावित कर सकते हैं, लिहाज़ा पार्टियों ने इस पर काम करना शुरू कर दिया है। पार्टियों को विश्वास है कि चुनाव से पहले उनकी ये मेहनत रंग लाएगी औऱ वे अपनों को मनाने में कामयाब होंगें। पार्टियों को उम्मीद है कि नामांकन पत्रों की वापसी के बाद ज्यादातर प्रत्याशी पार्टी के खिलाफ अपना नामांकन वापस ले लेंगे। असंतुष्ठों और बागियों को मनाने के लिए दोनों दलों की टीम मैदान में उतर चुकी है। पार्टी की कोशिश है कि नामांकना पत्रों की वापिसी तक ज्यादातर बागियों को मना लिया जाए। जिससे चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के लिए किसी भी तरह की मुश्किलों का सामना नहीं किया जाए। वही सोमवार से सिंधिया अपनी चुनावी सभा कर रहे है, उम्मीद है कि वे भी उन्हें मनाने में सफल होंगें।

Loading...