Advertisements

कर्नाटक सरकार मना रही है टीपू जयंती, भाजपा का विरोध, बवाल और गिरफ्तारी

बेंगलुरु। कर्नाटक पूर्ववर्ती मैसूर साम्राज्य के शासक रहे टीपू सुल्तान की जयंती पर सियासी घमासान छिड़ा है। विपक्षी भाजपा के विरोध के बावजूद कर्नाटक सरकार शनिवार को टीपू जयंती मनाने जा रही है। हालांकि, स्वास्थ्य कारणों से मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अपने को इस समारोह से अलग कर लिया है।

मुख्‍यमंत्री कार्यालय से जारी सूचना के मुताबिक, कुमारस्वामी की तबीयत खराब है और डॉक्टरों ने उन्हें तीन दिनों तक आराम करने की सलाह दी है। उनकी पार्टी जनता दल-सेकुलर भी समारोह से दूरी बनाए हुए है। हालांकि, राज्‍य के कैबिनेट मंत्री बी. काशेमपुर ने कहा है कि सीएम कुमारस्वामी ने

उन्‍होंने कहा कि मैं बीदर में टीपू जयंती कार्यक्रम में रहूंगा, जबकि जेडीएस मंत्री वेंकटराव नाडागौड़ा बेंगलुरु में सीएम की जगह पर कार्यक्रम करेंगे। उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता जी. परमेश्वरा राज्य सचिवालय में समारोह का उद्घाटन करेंगे। इस बीच कर्नाटक के अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण मंत्री बीजे जमीर अहमद खान ने पूर्व मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया से मुलाकात की है।

बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था

टीपू जयंती पर भाजपा के विरोध को देखते हुए पूरे राज्य में सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किए गए हैं। पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि टीपू सुल्तान की जयंती को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए बेंगलुरु, मैसूर, कोडागू और मंगलुरु में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

टीपू जयंती मनाए जाने के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने डिप्टी कमीश्नर के दफतर पर भी प्रदर्शन किया। मेडीकेरी में टीपू जयंती मनाए जाने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे समूहों को पुलिस ने हिरासत में लिया। जयंती समारोहों के खिलाफ भारी विरोध शुरू हो गया है। प्रदर्शन को देखते हुए सड़कों पर गाड़ियां नहीं चल रही हैं। कई जगहों पर सड़कों पर सन्नाटा फैला हुआ है। बताते चलें कि 18वीं शताब्दी के विवादास्पद शासक रहे टीपू सुल्तान की जयंती मनाने का सिलसिला कांग्रेस ने 2015 में शुरू किया था।

भाजपा का विरोध

कुमारस्वामी की गैरमौजूदगी पर भाजपा ने सवाल उठाये हैं। भाजपा ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया, ‘मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वावी लापता हैं!, जबकि कांग्रेस-जेडीएस सरकार टिपू जयंती मना रही है। मुख्यमंत्री खुद कहीं छिप गए हैं। ऐसे में टिपू जयंती मनाने का क्या मतलब है, जिसमें खुद सीएम शामिल नहीं हैं। यह सब केवल वोट बैंक के लिए किया जा रहा है।’

भाजपा जिला सचिव सज्जल कृष्ण्ण ने कहा कि टीपू जंयती के नाम पर सरकार जनता का पैसा बर्बाद कर रही है। टीपू कोई योद्धा नहीं था, उसने कई हिंदुओं को मारा और मंदिरों पर आक्रमण किया। ऐसे व्यक्ति को हम महान क्यों बता रहे हैं? यह केवल वोट बैंक की राजनीति है। कोडागु में सभी इसके विरोध में हैं।

बीजेपी ने टीपू सुल्‍तान को ‘अत्‍याचारी’ बताते हुए कांग्रेस से उनकी तुलना की है। बीजेपी ने ट्वीट कर कहा, ‘ कांग्रेस पार्टी और टीपू दोनों ही हिंदू विरोधी हैं। दोनों ही हिंदुओं की हत्‍या के लिए दोषी हैं। दोनों ही अल्‍पसंख्‍यकों के तुष्‍टीकरण में विश्‍वास रखते हैं। दोनों ही हिंदुओं को बांटना चाहते हैं। इसलिए कोई आश्‍चर्य नहीं है कि कांग्रेस अत्‍याचारी टीपू की पूजा कर रही है।’

कोडागू पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे बीजेपी एमएलए और पूर्व विधानसभा अध्‍यक्ष केजी बोपैया को हिरासत में ले लिया। कोडागू में बीजेपी के प्रदर्शन के कारण आम जनजीवन ठप हो गया है।

Loading...