पुष्य नक्षत्र में खरीदी का शुभ मुहूर्त, सजे बाजार, आप भी जानिए किस वक्त कौन सी वस्तु खरीदें

Advertisements

कटनी/जबलपुर। पुष्य नक्षत्र पर बुधवार को सूर्योदय से लेकर अर्धरात्रि 2 बजकर 33 मिनट तक खरीदारी के लिए सबसे सर्वोत्तम मुहूर्त रहेगा। नक्षत्र की शुरुआत तड़के 3.50 मिनट से होगी, जो पूरे दिन रहेगी। ऐसा माना जाता है कि दीपोत्सव से पूर्व आने वाले पुष्य नक्षत्र में खरीदी गई वस्तुएं अनंतकाल तक स्थायी रहती हैं और समृद्धिकारक होती हैं।

मुहूर्त 

  • सुबह 6.32 मि. से 7.56 मि. तक लाभ (सोना, चांदी, तांबे के बर्तन, रत्नाभूषण)

  • सुबह 7.57 मि. से 9.20 मि. तक अमृत (इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएं, घर का सामान)

  • सुबह 10.43 मि. से दोपहर 12.7 मि. तक शुभ (आभूषण, बहीखाते, कम्प्यूटर स्टेशनरी, वाहन)

  • दोपहर 2.55 मि. से 4.19 मि. तक चर (वाहन , घरेलू उपयोग की वस्तुएं, तांबे के बर्तन, चल संपत्ति)

  • दोपहर 4.20 मि. से शाम 5.43 मि. तक लाभ (अचल संपत्ति, आभूषण, निवेश)

  • शाम 7.19 मि. से रात 8.55 मि. तक शुभ (सोने-चांदी से बने आभूषण, बहीखाते)

  • रात 8.56 मि. से 10.32 मि. तक अमृत (वस्त्र आभूषण, वाहन, प्रॉपर्टी)

  • रात 10.33 मि. से रात 12.08 मि. तक चर (घरेलू वस्तुएं, कम्प्यूटर स्टेशनरी)

इसे भी पढ़ें-  New Aadarsh Gram Yojna: नई आदर्श ग्राम योजना से सात हजार गांवों में होंगे विकास कार्य

विशेष- बुधवार के दिन अभिजीत मुहूर्त का सर्वथा त्याग करना उचित रहता है।

दोपहर 11.43 मि. से 12.31 मि. तक के समय का यथासंभव त्याग करना चाहिए।

Advertisements