कंप्यूटर बाबा ने शिवराज सरकार को बताया ‘अधर्मी’, साध्वी बोली…

Advertisements
Advertisements

इंदौर: सीएम शिवराज और भाजपा से नाराज चल रहे कंप्यूटर बाबा ने दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मंगलवार को इंदौर में कंप्यूटर बाबा ने 400 साधुओं के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने शिवराज सरकार को अधर्मी करार दिया। वहीं, एक साध्वी ने उन्हें कंस की संज्ञा दी।

शिवराज ने संतों को प्रयोग अपनी राजनीतिक चमक के लिए किया
कंप्यूटर बाबा के साथ इस बैठक में 13 अखाड़ों के 400 साधु शामिल रहे। बैठक के बाद कम्प्यूटर बाबा ने कहा कि शिवराज सरकार अधर्मी है। उन्होंने कहा कि शिवराज की धर्म विरोधी गतिविधियों के चलते संत समाज पिछले 15 सालों से दुखी है। शिवराज सिंह संतों का इस्तेमाल अपनी राजनीति चमकाने के लिए करते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि गौ मंत्रालय पिछले 15 सालों में नहीं बन सका, जबकि इसका वादा किया गया था।

30 अक्टूबर से 23 नवंबर तक महा सम्मेलन करेंगे बाबा
शिवराज के खिलाफ कम्प्यूटर बाबा अन्य साधुओं के साथ 30 अक्टूबर को ग्वालियर, 4 नवंबर को खंडवा, 11 नवंबर को रीवा और 23 नवंबर को जबलपुर में महासम्मेलन करेंगे। उन्होंने कहा कि इस महासम्मेलन में वह लोगों को बताएंगे कि शिवराज की सरकार किसी भी हालत में राज्य में अब नहीं चलने वाली है।

‘शिवराज कंस मामा है’
वहीं, बैठक में एक साध्वी कविता राजश्री ने सीएम शिवराज पर हमला बोलते हुए उन्हें कंस मामा करार दिया। साध्वी ने कहा कि अपने आप को मामा बताने वाले शिवराज के राज में बच्चियों से बलात्कार हो रहे हैं और वे चुप हैं। उन्होंने कहा कि जो बच्चों को नहीं बचा सकते वो देश और समाज को कैसे बचाएंगे।

‘पद का लालट करना छोड़ दें शिवराज’
वहीं, अन्य संतों ने शिवराज पर हमला बोलते हुए कहा कि व्यापमं घोटाला राज्य का सबसे बड़ा भ्रष्टाचार है, जिसमें हत्याएं भी हुई हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पैसा लेने वाला आज भी खुलेआम घूम रहा है। ऐसे में शिवराज सिंह को पद का लालच छोड़ देना चाहिए और दूसरों को मौका देना चाहिए।

Advertisements
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: