अब कांग्रेस के दावेदारों की धड़कनें तेज

जबलपुर,यभाप्र। विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियों के बीच कांग्रेस में टिकटों पर माथा पच्ची जारी है। चुनावी सर्वे के अनुमानों में सत्ता विरोधी लहर और पिछले 15 वर्षो से अपनी जीत की संभावनाओं को तलाशती हुई कांग्रेस पार्टी में टिकट के दावेदारों की संख्या अत्याधिक हो गई है। ऐसे में जिताऊ उम्मीदवार का चयन कांग्रेस के लिए अब चुनौती बन गया है। ्रजबलपुर की आठ विधानसभा सीटों पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं द्वारा कराया गया सर्वे, आलाकमान के पास पहुंचे नामों के बाद बैठक में नाम तय हुए पर पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने कुछ नामों को लेकर आपत्ति जताना शुरु कर दिया जिसके चलते घोषणा रुक गई है। उत्तर-मध्य, केंट, पनागर, सिहोरा को लेकर उठापटक मची हुई है, जिसमें दावेदारों की संख्या भी ज्यादा है। हालांकि उम्मीदवारों के चयन को लेकर इस बार कांग्रेस बहुत सजग दिख रही है। प्रदेश कांग्रेस समिति में कई चरण की प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद दिल्ली में बंद कमरे में टिकट दावेदारों से व्यक्तिगत रूप से बातचीत की गई। जिसके बाद सीटों पर जिताऊ उम्मीवदारों पर भरोसा जताया गया। इस पूरी प्रक्रिया से पार्टी कार्यकर्ताओं में भी भरोसा पैदा हुआ। बावजूद इसके प्रदेश की कई सीटों पर उम्मीदवार तय करने को लेकर पार्टी में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। एक वरिष्ठ पदाधिकारी सेे दशहरा चल समारोह के दौरान पूछा कि आप मैदान में नहीं हैं तो उनका कहना था कि हमने नाम ही नहीं भेजा। पर अंदर की बात है कि वे अब भी सब पर भारी हैं। उनसे पूछा गया कि कब तक प्रत्याशी तय हो जाएंगे तो उनका जवाब था हमसे ज्यादा आपको पता है। उन्होंने कहा पार्टी जिसे मैदान में उतारेगी हम पूरी निष्ठा के साथउसका साथ देंगे। सूत्रों के अनुसार दो तीन दिन में किसी भी दिन नामों की घोषणा हो जाएगी, जहां तक विवादों की बात है तो सिहोरा सीट को लेकर प़ेच फंस गया है। खिलाड़ी सिंह आर्मो के भाजपा से कांग्रेस में आने के बाद यहां पर मामला बुरी तरह मच गया है, यहां तक कि पार्टी के दावेदारों ने अपना विरोध प्रकट करना शुरु कर दिया था, कुछ ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से कहा कि यदि इस नाम को फाइनल किया गया तो कार्यकर्ता काम नहीं करेगा, वहीं खिलाड़ी सिंह आर्मो की आदिवासियों के बीच मजबूत पकड़ को देखते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता इस नाम को लेकर विचार मंथन कर रहे है जबकि यहां से दो महिलाएं सशक्त दावेदार हैं। जहां तक जो खबरें आ रहीं हंै उनके अनुसार पश्चिम, पूर्व, पाटन की सीटों पर एक एक नाम तय हो चुके हैं पर पनागर ,उत्तर मध्य, केंट, बरगी में को लेकर शीर्ष नेतृत्व में घमासान मचा हुआ है। पार्टी सूत्रों की माने तो जिन विधानसभा क्षेत्रों को लेकर पार्टी में घमासान मचा हुआ है, वहां एक दो दिन में फाइनल मुहर लग जाएगी. ऐसे में दावेदारों की भी धड़कनें तेज हो गई है, वे भी हर पल अपने अपने सूत्रों के जरिए भोपाल से लेकर दिल्ली तक के हालात पर नजर जमाए हुए हैं।