Advertisements

बीजेपी में मंत्री का दर्जा रखने वाले निगम-मंडल अध्यक्ष भी मांग रहे टिकट

भोपाल। प्रदेश के निगम-मंडल, बोर्ड और आयोग में तैनात मंत्री दर्जा वाले नेता भी विधानसभा चुनाव में टिकट की दौड़ में हैं। अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद पर तैनात दर्जन से ज्यादा नेता विधानसभा चुनाव में भी भाग्य आजमाना चाहते हैं।
बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष डॉ. राघवेंद्र शर्मा, अजजा आयोग अध्यक्ष नरेंद्र मरावी, डॉ. शिवराज शाह, महिला आयोग की अध्यक्ष लता वानखेड़े, नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष डॉ. हितेश वाजपेयी, पर्यटन निगम के अध्यक्ष तपन भौमिक, रोजगार बोर्ड के अध्यक्ष हेमंत देशमुख, अजा वित्त निगम के भुजबलसिंह अहिरवार, ऊर्जा विकास निगम के विजेंद्र सिंह सिसोदिया, हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष कृष्णमुरारी मोघे, पूर्व अध्यक्ष-उपाध्यक्षों में गोविंद मालू, रामकिशन सिंह चौहान शामिल हैं। ये सभी तैयारियों में भी जुटे हुए हैं।
मंत्री दर्जा प्राप्त नेताओं में से टिकट के सबसे ज्यादा दावेदार विकास प्राधिकरणों में तैनात अध्यक्ष-उपाध्यक्ष हैं। भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष ओम यादव खुद टिकट की कतार में लगे हुए हैं। ऐसे विकास प्राधिकरण अध्यक्षों में जबलपुर के विनोद मिश्रा, ग्वालियर के अभय चौधरी, उज्जैन के जगदीश अग्रवाल, बुंदेलखंड विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रामकृष्ण कुसमरिया, विजय बहादुरसिंह बुंदेला, महेंद्र यादव, महाकौशल प्राधिकरण के प्रभात साहू, कटनी के ध्रुव प्रताप सिंह शामिल हैं ।
डॉ. हितेश वाजपेयी – मप्र राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष डॉ. वाजपेयी भी लंबे समय से टिकट की दौड़ में लगे हैं। पेशे से डॉक्टर हैं। सरकारी नौकरी छोड़कर राजनीति में आए हैं। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी रह चुके हैं। सीहोर के इछावर या भोपाल मध्य से टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। ब्राह्मण नेता होने के साथ भाजपा के प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे के करीबी हैं।
हेमंत देशमुख – मप्र रोजगार बोर्ड के अध्यक्ष बनाए गए हेमंत देशमुख भी संघ की पृष्ठभूमि से जुड़े हुए हैं। वे बैतूल जिले के मुलताई विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ना चाहते हैं। बोर्ड के अध्यक्ष रहते हुए मुलताई में कई बड़े कार्यक्रम करवाकर जमीन तैयार कर चुके हैं। मुलताई में जातिगत समीकरणों का भी हवाला दे रहे हैं।
डॉ. राघवेंद्र शर्मा – मप्र बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष बनाए गए डॉ. राघवेंद्र शर्मा भी संघ की पृष्ठभूमि से जुड़े हुए हैं। कानून में पीएचडी हैं। दस साल तक संघ के प्रचारक रहे हैं। फिलहाल भी संघ की कई संस्थाओं में अहम जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। पिछले कई साल से शिवपुरी जिले के पिछोर में समाजसेवा कर रहे हैं। पिछोर से ही टिकट की दावेदारी कर रहे हैं।
कृष्णमुरारी मोघे – मप्र हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष कृष्णमुरारी मोघे भी टिकट के दावेदार हैं। इंदौर से महापौर रह चुके हैं। खरगोन से सांसद भी रह चुके हैं। प्रदेश भाजपा के संगठन महामंत्री रह चुके हैं। पार्टी की चुनाव समिति में सदस्य से लेकर धन जुटाने वाली अर्थ समिति के अध्यक्ष हैं। वे इंदौर की किसी भी सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं।
हिम्मत कोठारी – रतलाम से लंबे समय तक विधायक रहे हिम्मत कोठारी राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष हैं। सुंदरलाल पटवा सरकार में भी मंत्री रहे। गौर और शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे। परिवहन, गृह, सहकारिता सहित कई विभागों की जिम्मेदारी संभाली। ईमानदार और कड़क नेता के रूप में पहचाने जाते हैं।
तपन भौमिक – मध्य प्रदेश राज्य पर्यटन निगम के अध्यक्ष तपन भौमिक भोपाल के गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र से टिकट चााहते हैं। भौमिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में प्रचारक रहे हैं। प्रदेश भाजपा में भी कई पदों पर रह चुके हैं। संघ के करीबी होने के साथ ही कार्यकर्ताओं पर मजबूत पकड़ है। स्वयं को गोविंदपुरा के विधायक बाबूलाल गौर का उत्तराधिकारी मानते हैं।
Loading...