मिलर नहीं उठा रहे फेल चावल

Advertisements

जबलपुर। मिलर नहीं उठा रहे फेल चावलकागजो पर बदलने की है तैयारी, दो माह से पड़ा है गोदाम मेंजबलपुर नगर प्रतिनिधी। नागरिका आपूर्ति निगम द्वारा मिलरो के चावल को फेल कर देने के बाद भी चावल दो माह से गोदामो में पड़ा हुआ है। जिसे मिलर उठाने में आनाकानी कर रहे है। जानकारी के मुताबिक कम गुणवत्ता होने के कारण भोपाल से आई हुई टीम ने इसे रिजेक्ट कर दिया था। जिसे नियमानुसार मिलर द्वारा उठाकर ले जाना था और फिर नया चावल जमा करना था। लेकिन मिलर इसी चावल का लॉट नंबर और बैच नंबर बदलकर नया बनाने की फिराक में है।

ये है पूरा मामला

नागरिक आपूर्ति निगम सार्वजनिक वितरण प्रणाली में चावल बाटने के लिये धान की मिलिंग अनुबंधित राईस मिलरो से करवाते है। जो निर्धारित गोदाम से धान उठाकर उसकी मिलिंग करते है और फिर निर्धारित मापदण्डों के हिसाब से उसे नान की गोदामो में जमा कराते है। जिसे नान के गुणवत्ता निरिक्षक जांच करते है और नियमानुसार होने पर उसे स्वीकृत या अस्वीकृत करते है।रिछाई स्थित नागरिक आपूर्ति निगम की गोदाम में अनुबंधित मिलरो द्वारा चावल जमा कराया गया था। जिसकी जांच भोपाल से आई टीम द्वारा 17 अगस्त को की गई। जिसमें लगभग 12 मिलरो के चावल को रिजेक्ट कर दिया गया। जिसे मिलरो द्वारा दो माह के समय बीत जाने के बाद भी गोदाम से नहीं उठाया गया है।ऐसे होता है खेलजब मिलर का चावल फेल कर दिया जाता है तो फिर मिलर अधिकारियों से साठ गांठ करके उस चावल को कागजो में उठाता है याने भौतिक रूप से तो चावल गोदाम में पड़ा रहता है लेकिन कागजो में चावल के स्टेग व बैच नंबर बदल दिये जाते है। जिसके ऐवज में क्वालिटी निरिक्षक को प्रतिलॉट 5 से 6 हजार रूपये मिलर द्वारा दिये जाते है।

इसे भी पढ़ें-  समीर वानखेड़े की पत्नी का आरोपों पर पलटवार: क्रांति रेडकर ने कहा- हमें लटकाने, जलाकर मार देने की धमकियां मिल रही हैं

यशभारत के पास इस बात के पुख्ता प्रमाण है

मिलर फर्जी कांटा पर्ची बनाकर चावल को गोदाम से उठाया और दोबारा लाया गया दिखाते है। कहीं-कहीं तो दस मिनट के अंदर एक ही गाड़ी चावल लेकर आ जाती है और चावल खाली हो जाता है और उसी दौरान फेल हुआ चावल ट्रक में लोड भी हो जाता है।पहले पास फिर फेल17 अगस्त को भोपाल से आई टीम द्वारा जिस चावल को फेल कर दिया गया है उसी चावल को नागरिक आपूर्ति निगम के गुणवत्ता निरीक्षक द्वारा पास कर दिया गया था। जो इस बात की पुष्टि करता है कि गुणवत्ता निरीक्षक पांच से छह हजार  लेकर लॉट पास कर रहे है। जिस चावल को पास कर दिया गया था। उसे किस आधार पर फेल कर दिया गया। यह गुणवत्ता निरीक्षक की कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है।

इसे भी पढ़ें-  समीर वानखेड़े की पत्नी का आरोपों पर पलटवार: क्रांति रेडकर ने कहा- हमें लटकाने, जलाकर मार देने की धमकियां मिल रही हैं

इनका हुआ चावल फेलमिलर का नाम

स्टेग क्रमांक बैगहस्वानी एंड संस १२/१० २८७२

एम.जे. ट्रेड लिंक ९/११ ३००५छवि इंडस्ट्रीज़ ८/८ ५४०

साईनाथ एग्रो ८/८ २५२०

पीएस उद्योग ८/४ १३०६

हस्वानी एंड संस ८/४ १०८०

मेकल इंडस्ट्रीज़ ९/३ ३३९३

प्रकाश इंडस्ट्रीज़ १२/२ ३०६०प्र

काश इंडस्ट्रीज़ ६/२ १६२०

साईनाथ एग्रो ६/२० १५९३

हस्वानी एंड संस ६/५ १४९३

महालक्ष्मी इंडस्ट्रीज़ ६/५ १६२०

अर्श इंडस्ट्रीज़ ६/१५ १०८०

महालक्ष्मी इंडस्ट्रीज़ ६/१५ १६१९

सम्यक इंडस्ट्रीज़ ६/६ ३०५५

Advertisements