Advertisements

लगातार दूसरी बार कर दिया प्रायोगिक परीक्षा में फेल

जबलपुर। एक तरफ जहां विटनरी विश्वविद्यालय खेती एवं पशुपालन से संबंधित किसानों के लिए उत्साहवर्धन कार्य करने में लगा हुआ है वहीं कुछ छात्र कॉलेज प्रबंधन की कार्यप्रणाली से नाराज दिख रहे हैं । छात्रों का आरोप है कि उन्हें जानबूझकर प्रायोगिक परीक्षा की कंपार्टमेंट परीक्षा में भी फेल कर दिया गया । छात्रों का आरोप है कि 13 अगस्त को उनकी प्रायोगिक परीक्षा ली गई थी जिसका रिजल्ट 10 सितंबर को आ गया रिजल्ट में 5 से 8 विद्यार्थियों को फेल कर दिया गया और उन्हें पहली बार नहीं दूसरी बार फेल किया गया है छात्र कहते हैं । थ्योरी सब्जेक्ट में वह अच्छे नंबरों से पास हो जा रहे हैं

एच ओडी व एग्जाम कंट्रोलर कर रहे हैं प्रताड़ित – आरोप
छात्रों का आरोप है कि एचओडी मधु स्वामी द्वारा लगातार किसी बात को लेकर उनसे इस प्रकार का बदला लिया जा रहा है एवं लगातार दूसरी बार प्रैक्टिकल की परीक्षा में फेल कर दिया जा रहा है वही एग्जाम कंट्रोलर की भी इस प्रताड़ना में संलिप्तता रहती है

लगातार दो दिन से मिलने के लिए खड़े थे विद्यार्थी

छात्र कॉलेज प्रबंधन से मिलने के लिए लगातार दो दिन से कॉलेज प्रांगण में खड़े हैं परंतु कॉलेज प्रबंधन इस बात को अभी भी गंभीरता से नहीं ले रहा है इस बात का अंदाजा इस प्रकार से लगाया जा सकता है कि 10 बच्चों को फेल करने के बाद छात्र अभी तक संस्था के किसी बड़े अधिकारी से नहीं मिल पाए हैं।
अभिभावक भी परेशान
छात्र तो परेशान हो ही रहे हैं कई घंटों तक अभिभावकों को भी कॉलेज के बाहर बैठा दिया जाता है कुलपति तक तो यह बात भी नहीं पहुंच पाती कि छात्रों के साथ क्या हो रहा है। छात्र उनसे मिलने उनके कक्ष के बाहर खड़े हुए हैं ।

आपसी राजनीति का शिकार होते बच्चे
विटनरी विश्वविद्यालय में विभिन्न प्रकार के गुण पिछले 3 सालों से चल रहे हैं परंतु कुलपति जी की कार्य प्रणाली के दौरान पिछले 2 सालों में इस प्रकार की किसी भी बातों का कोई सामना नहीं हो पाया परंतु अब ऐसा लग रहा है कि यह गुट फिर से उभर कर सामने आ रहे हैं जैसे कि कॉलेज में डीन ग्रुप अलग है तो रिसर्च विभाग का गुटअलग दिखता है कहीं-कहीं तो रजिस्ट्रार ग्रुप एवं प्रचार प्रसार विभाग का भी गुट अलग नजर आता है
जिस का शिकार इन बच्चों को होना पड़ रहा है

वीडियोग्राफी करके लेती हैं प्रायोगिक परीक्षा

छात्रों का कहना है कि जब प्रैक्टिकल की परीक्षा ली जाती है तो कॉलेज प्रबंधन हेड ऑफ डिपार्टमेंट और एग्जाम कंट्रोलर द्वारा उनके प्रैक्टिकल की वीडियोग्राफी भी की जाती है जिसके चलते छात्र नर्वस हो जाता है और वह परफॉर्मेंस नहीं कर पाता है जिसकी वह पास रखता है

कॉलेज के डीन बच्चों के समर्थन में आगे आए
जहां एक तरफ छात्र परेशान होते नजर आ रहे थे वही कॉलेज के डीन डॉक्टर बघेल जी का कहना था कि अगर बच्चों के साथ ऐसा हो रहा है तो यह गलत है परंतु उनके द्वारा किसी भी प्रकार की उनकी समस्याओं निराकरण भी करते नहीं देखा गया

हमारे द्वारा छात्रों की समस्याओं का निराकरण किया जा रहा है अगर ऐसी कोई बात हुई है तो यह गलत है छात्र प्रबंधन बैठकर इस समस्या का निराकरण करेगा
डॉक्टर बघेल
डीन
विटोरी विश्वविद्यालय