Advertisements

20 साल बाद फिर पड़ा छापा तो फिर उजागर हुई आय से अधिक संपत्ति

जबलपुर। गोरखपुर क्षेत्र के कटँगा चौराहा के समीप एपीआर कालोनी में रहने वाले सिचांई विभाग के सेवानिवृत्त ईई कोदू प्रसाद तिवारी के यहां आज तड़के ईओडब्ल्यू की टीम ने छापे की कार्यवाही की। जबलपुर के अलावा ईओडब्ल्यू की एक टीम ने सतना जो कि इनके गृहग्राम से करीब है वहां भी छापामारकर सतना में प्रभात विहार कालोनी में भी छापा की कार्यवाही की।

18 साल पहले भी पड़ा था छापा
यहां पर उल्लेखनीय बात यह है कि जिन के पी तिवारी के यहां आज तड़के छापे की कार्यवाही की गयी उनके यहां वर्ष 1998 में भी छापा पड़ चुका है और उस समय भी उनके पास से आय से अधिक सम्पत्ति उजागर हुई थी। लेकिन जैसे जैसे इनकी पदोन्नति होती गयी इनकी सम्पत्ति का आंकड़ा भी बढ़ता गया और सेवानिवृत्ति के बाद वे करोड़ों के आसामी निकले। परिवार में कोदूलाल तिवारी, पत्नी श्रीमती गिरजा देवी, बेटा राकेश तिवारी, बहु प्रीति तिवारी हैं और ये लोग मूलतः ग्राम बराकला सतना के रहने वाले हैं। और हाल में प्रभात विहार कालोनी सतना एवं 45 एपीआर कालोनी कटंगा जबलपुर में रहते हैं।

इसके अलावा उनके ग्राम बरकलां में भी छापे की कार्यवाही जारी है। यहां पर ईओडब्ल्यू की टीम को पैतृक भूमि में नया मकान के अलावा राजेन्द्र नगर सतना में पेट्रोल पंप लगभग एक दर्जन प्लाट सतना और उसके आसपास 120 एकड़ जमीन 19 बैंक खातों के साथ ही 6 वाहन जिनमें एक पेट्रोल टैंकर, एक टाटा सफारी गाड़ी, एक क्रेटा कार, एक सेंट्रो कार एक मारुति 800 और एक ट्रेक्टर भी मिला है।

ईओडब्यलू सूत्रों के मुताबिक छापे के दौरान बड़ी मात्रा में जेवरात और नगदी मिलने की भी संभावना है। इनके कुल 19 बैंक खाते मिले हैं जिनकी ईओडब्यलू की टीम जांच पड़ताल करने में जुटी है। जबलपुर स्थित निवास पर परिजनों के न होने के कारण ईओडब्ल्यू टीम ने फिलहाल उनके आलीशान बंगले को सील कर दिया है और श्री तिवारी को जबलपुर बुलाया गया है। उनके आने के बाद ही एपीआर कालोनी स्थित बंगले को खंगाला जाएगा।

इस बंगले में ईओडब्ल्यू के हाथ क्या लगता है यह तो श्री तिवारी के आने के बाद ही पता लग सकेगा। जबलपुर में छापे की कार्यवाही ईओडब्यलू के डीएसपी राजवर्धन माहेश्वरी के नेतृत्व में की गयी। उनके साथ में लक्ष्मी यादव, एसआई गोविंद यादव के अलावा अन्य कर्मी भी मौजूद रहे। जबकि सतना और बराकला गयी टीम ने स्वर्णजीत धामी, रीना पांडे, शशि मसकोले, आदि शामिल हैं।

ईओडब्ल्यू सूत्रों के मुताबिक अब तक लगभग 50 करोड़ की आय से अधिक सम्पत्ति का पता तो लगा है जिसकी जांच पड़ताल में ईओडब्ल्यू की टीमें जुटी हुई हैं। आने वाले समय में जबलपुर की एपीआर कालोनी स्थित बंगले के खुलने के बाद और क्या क्या हाथ लगता है यह तो कार्यवाही के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा।

Hide Related Posts
%d bloggers like this: