Advertisements

रेलवे ट्रैक के पास झाड़ियों में मिली लाश के मामले में हत्या का मामला दर्ज, आरोपियों की पतासाजी में जुटी पुलिस

जबलपुर। संजीवनीनगर थाना क्षेत्र में भूलन चौकी के रेलवे ट्रैक से 25-30 फिट की दूरी पर नाली के पास झाड़ियों में रविवार 26 अगस्त की दोपहर एक युवक की लाश मिलने से सनसनी फैल गई थी। इस घटना की जानकारी मिलते ही संजीवनी नगर थाने का स्टाफ मौके पर पहुंचा और प्रारंभिक परिक्षण के बाद पीएम के लिये भिजवाया। मृतक के सिर में चोटों के निशान पाये गये हैं और बांये पैर के पंजा कटा होने के कारण पुलिस ने हत्या की आशंका से भी इंकार नहीं किया था। घटना के बाद से ही संजीवनी नगर पुलिस मृतक की शिनाख्त के प्रयास में जुटी थी। विवेचना और जांच पड़ताल के दौरान पुलिस को जानकारी लगी कि मृतक का नाम अर्जुन कोल था जो कि खमरिया थानांतर्गत पिपरिया का रहने वाला था। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और आरोपियों की पता साजी करने में जुटी गई है। पीएम रिपोर्ट में अर्जुन की मौत का कारण उसकी हत्या करना बताया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि रविवार की दोपहर करीब साढ़े तीन बजे भूलन चौकी के पास एक युवक की लाश मिली थी। मृतक काले रंग की टीशर्ट पहने हुआ था। जिसके गले में मुगदर जैसा लॉकेट और जेब में नमकीन का पैकेट मिला था। इसके अलावा उसकी पहचान से संबंधित किसी तरह के दस्तावेज नहीं मिले थे। बहरहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना तो शुरु कर दी है लेकिन मृतक कौन है, कहां का रहने वाला है इसकी अभी कोई शिनाख्त नहीं हो पाई है। पुलिस मृतक की शिनाख्ती के प्रयास करने में जुटी हुई है। मृतक की हत्या किन कारणों से और किसने की है पुलिस इसकी विवेचना कर रही है।

शराबखोरी में युवक पर जानलेवा हमला
जबलपुर, मुनप्र। सिविल लाईन थाना क्षेत्र के रहने वाला प्रदीप नामक युवक अपने दोस्त रिंकू गोटिया हसीम खान बबला आदि के साथ पिछले दिनों शिवाजी ग्राउण्ड सदर गया हुआ था जहां इन लोगों ने शराब पी। शराब के नशे में किसी बात पर इन लोगों का विवाद हो गया जिसके चलते प्रदीप को पेट, कमर, घुटने आदि में गंभीर चोटें आयी हैं और उसे कुल 35 टांके लगे हैं। यह घटना 27 अगस्त के आसपास की बतायी जा रही है। घटना के बाद कल प्रदीप की बहन निशा मिश्रा ने सिविल लाइन थाने में जाकर पूरे मामले की शिकायत की। सिविल लाइन पुलिस ने जीरो पर धारा 307 के तहत मामला दर्ज कर केस डायरी केंट पुलिस के हवाले कर दी है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गयी है जबकि घायल प्रदीप का उपचार अब भी अस्पताल में चल रहा है। आरोपी अभी तक पुलिस के हाथ नहीं लग पाए हंै।