Advertisements

अनदेखी- सरकार ने अब तक विभागीय भत्ते नहीं किए संशोधित !

जबलपुर। जनता की सुरक्षा में चौबीस घंटे ड्यूटी करने वाले पुलिस जवानों को पांच साल बाद सरकार ने नाश्ते व भोजन में सिर्फ पांच रुपए की राहत दी है। इसी महीने गृह मंत्रालय से जारी आदेश में पुलिसकर्मियों के नाश्ते व भोजन में बढ़ोत्तरी हुई है। 2013 से पुलिसकर्मियों को नाश्ते पर 15 रुपए व भोजन पर 45 रुपए मिलते थे। इस साल सरकार ने आदेश में संशोधन कर नाश्ते पर 15 से बढ़ाकर 20 रुपए व भोजन पर 45 से ब?ाकर 50 रुपए किए हैं। जबकि महंगाई के इस दौर में फील्ड में ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी लगभग 100 से 150 रुपए का भोजन व नाश्ता कर लेते हैं। हास्यास्पद तो यह है कि सरकार ने आदेश में सिर्फ भोजन व नाश्ते पर ही ब?ोत्तरी की है। बाकी नियम व शर्त यथावत रखी यानी हाइटेक जमाने में भी पुलिस को कागजों में साइकिल पर गश्त बता उसी मान से भत्ता दिया जाता है। थानों में आरक्षक व प्रधान आरक्षकों को गश्त व डाक ले जाने के लिए 18 रुपए साइकिल खर्च के मान से पैट्रोल दिया जाता है। जबकि एसआई, एएसआई को जांच के लिए खुद की गाड़ी में स्वयं के पैसे का पैट्रोल फूंकना प?ता है। यह भत्ता भी वेतन के साथ ही जुड़कर आता है।

सालों पहले तय भत्ते पुलिसकर्मियों के लिए पर्याप्त नहीं
पैट्रोल : गश्त के लिए सिर्फ 18 रुपए, अभी पैट्रोल के दाम 82 रुपए प्रति लीटर से ज्यादा है।
डीजल : सरकारी वाहन में हर माह तकरीबन 240 लीटर डीजल डलवाया जाता है जबकि लंबी ड्यूटी या अन्य सरकारी कामों में इससे ज्यादा ईंधन खर्च पुलिस को अपनी जेब से भुगतना पड़ता है।
वर्दी : बूट पॉलिश, वर्दी धुलाई के नाम पर सिर्फ 60 रुपए मिलते हैं। जबकि पहले वर्दी और जूते विभाग ही देता था। अब वर्दी के नाम पर सालाना 400 रुपए दिए जाते हैं।
ट्रेवलिंग : सभी को अलग-अलग मान से टीए-डीए दिया जाता है। इसमें राज्य के अंदर जाने के लिए 125 व दूसरे राज्य में आने-जाने के लिए 200 रुपए दिए जाते हैं।
खाना व नाश्ता : इसमें अब 5-5 रुपए की बढ़ोत्तरी हुई है। नाश्ते के 15 से ब?ाकर 20 व भोजन के 45 से ब?ाकर 50 रुपए कर दिए हैं।
मकान : मकान किराया पुलिसकर्मियों को जेब से चुकाना पड़ता है। क्योंकि विभाग हाउस एलाउंस के नाम पर मात्र 350 रुपए देता है।

गश्त के लिए 18 रुपए, भोजन-नाश्ते में 5 रुपए की राहत ही मिली
नाश्ते और भोजन भत्ते के ब?े हुए आदेश आ चुके हैं
नाश्ते के 15 से ब?ाकर 20 रुपए और भोजन के 45 से ब?ाकर 50 रुपए कर दिए हैं। यह आदेश भी हमें पीएचक्यू से आ चुके हैं। अमित
फिर भी इतना कम भत्ता