उज्जैन। मालनवासा में रविवार सुबह पुलिस को झाड़ियों में एक 25 वर्षीय अज्ञात व्यक्ति का शव मिला था। मृतक की जेब से उज्जैन नागरिक सहकारी पेढ़ी में काम करने वाले भगवानसिंह नामक व्यक्ति का आधार कार्ड मिला था। पुलिस ने उससे पूछताछ की तो भगवानसिंह ने बताया कि उसका आधार कार्ड कालू नामक युवक को दिया था। सोमवार को कालू को थाने बुलाया गया। जहां उसने जहरीला पदार्थ खा लिया। उपचार के लिए उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। मृतक के हाथ पर सुरेश गोयल गुदा हुआ मिला है।

उसके सीने व गले पर जलने के निशान मिले। पुलिस को मृतक की जेब से भगवानसिंह पिता नृसिंह निवासी कागसीपुरा दानीगेट का आधार कार्ड मिला है। पुलिस ने उसकी तलाश कर थाने पर बुलाया। भगवानसिंह ने बताया कि वह उज्जैन नागरिक सहकारी पेढ़ी में भृत्य है। उसका आधार कार्ड कालू पिता भगवानदास निवासी शनि मंदिर की गली ढाबा रोड के पास रखा हुआ था। इस पर पुलिस ने कालू को थाने बुलाया। सोमवार सुबह कालू नागझिरी थाने पहुंच गया। यहां पुलिस उससे पूछताछ कर रही थी। इसी दौरान उसने जेब से जहरीला पदार्थ निकालकर खा लिया। घबराए पुलिसकर्मी उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। जहां उसका उपचार जारी है।

कालू बोला मुझे झूठा फंसा रहा भगवान

कालू ने बताया कि करीब तीन साल पूर्व उसने भगवानसिंह के हामूखेड़ी स्थित मकान का निर्माण किया था। इसके बाद से ही उसका परिचय हो गया था। वह भगवानसिंह को बापू व उसकी पत्नी संतोष बाई को मां मानता है। इस कारण उसका भगवान के घर आना-जाना है। मगर वह उस पर शंका करता है। रविवार को संतोष बाई ने उसे बताया कि भगवानसिंह उसका झूठा नाम पुलिस को बता रहा है। पुलिस ने भी उसे सोमवार को थाने बुलाया था। इस कारण वह जहरीला पदार्थ साथ ले गया। हत्या के मामले में झूठा फंसते देख मैंने जहर खा लिया।

साथ काम करता था

कालू ने पुलिस को यह भी बताया कि मृतक सुरेश गोयल उसे रोजाना छत्रीचौक स्थित सराय पर मिलता था। 6 दिन पूर्व उसने सुरेश के साथ नयापुरा में एक निर्माणाधिन मकान में काम किया था। इसके बाद से उसकी मुलाकात नहीं हुई। पुलिस को आशंका है कि कालू ने ही सुरेश की हत्या कर दी और भगवान सिंह का आधार कार्ड मृतक की जेब में डाल दिया। सोमवार को भी मृतक सुरेश के परिजन का पता नहीं चला। इस पर पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर दफना दिया।