स्किन कैंसर के रसायन युक्त जूते-चप्पलों की जांच कराएगी कांग्रेस- शोभा ओझा

 नई दिलली। सीएम शिवराज द्वारा तेंदूपत्ता संग्राहकों को कैंसर रसायन युक्त जूते-चप्पल बांटने के बाद प्रदेश की राजनीति गरमा गई है।  इन जूते-चप्पलों से कैंसर का खतरा होने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने कहा कि वो अपने स्तर पर लैब में इसकी जांच कराएगी और रिपोर्ट सामने आने के बाद उचित कार्रवाई करेगी।

प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी शोभा ओझा ने सोमवार को पत्रकार वार्ता कर आरोप लगाया है कि इस योजना के तहत तेंदूपत्ता संग्राहकों में बांटे गए जूतों के इनर सोल में स्किन कैंसर पैदा करने वाला हानिकारक रसायन एजो डाइ मिला हुआ है। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस अपने स्तर पर इसकी प्रयोगशाला जांच के बाद इस मामले में उचित कानूनी कार्रवाई करेगी’।

इस दौरान पत्रकार वार्ता में लगभग एक दर्जन आदिवासी तेंदूपत्ता संग्राहक भी उपस्थित थे, जिन्होंने कहा कि सात से दस दिन तक इन जूते-चप्पलों का उपयोग करने के बाद उन्हें खुजली होने लगी और इसके बाद उन्होंने इन्हें पहना ही बंद कर दिया।

ओझा ने कहा कि इस योजना में सरकार की ओर से जूते-चप्पलों की खरीदी में बड़ा भ्रष्टाचार भी हुआ है और ई-टेंडरिंग के बजाय मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम के जरिए 195 रुपए में प्रति जोड़ी जूते तथा 131 रुपए में प्रति जोड़ी चप्पल खरीदी गई है, जबकि इनकी गुणवत्ता घटिया होकर जूते चप्पलों पर उत्पादक का नाम तक दर्ज नहीं किया गया है। ओझा ने मांग की, ‘शिवराज सरकार आदिवासियों को कैंसर के ख़तरे से बचाने के लिए शीघ्र ही अब तक बांटे गए सारे जूते-चप्पलों को वापस बुलवाएं और सारे मामले की उच्चस्तरीय जांच कराएं।’

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस ‘चरण पादुका योजना’ की शुरुआत छत्तीसगढ़ के बीजापुर में इस साल 14 अप्रैल को एक आदिवासी महिला को अपने हाथों से मंच पर चप्पल पहनाकर की थी. इस योजना के तहत देश में तेंदूपत्ता बीनने वालों को चप्पलें एवं जूते दिए जाने हैं, जिससे वो जंगलों में आसानी से चल सकें. इसी के तहत मध्यप्रदेश में 19 अप्रैल से चरण-पादुकाएं दी जा रही हैं।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber