डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी ने बताया कि अवधपुरी स्थित क्रिस्टल आइडल सिटी निवासी 35 वर्षीय अश्विनी शर्मा अवधपुरी इलाके में दो छात्रावास संचालित करता है। इनमें से एक मूक-बधिर बालिकाओं का है। इसमें सामाजिक न्याय विभाग से मिल रहे अनुदान के आधार पर दिव्यांग बालिकाओं को आईटीआई के जरिए आत्मनिर्भर बनाया जाता है। यहां पर धार की दो युवतियों सहित कई मूक-बधिर लड़कियां रह रही थीं। इनमें धार जिले की रहने वाली दो युवतियां भी शामिल थीं।

एक लड़की ने इशारे से बताई संचालक की करतूत

डीआईजी के मुताबिक धार निवासी एक लड़की से पांच माह पहले छात्रावास संचालक अश्विनी शर्मा ने अश्लील हरकत की थी। इस पर मूक-बधिर लड़की ने अश्विनी के साथ मारपीट कर दी थी और छात्रावास छोड़कर घर चली गई थी।

उस लड़की को इस बात का पता भी चल चुका था कि अश्विनी उसके साथ रह रही दूसरी युवती के साथ अश्लील हरकत करने के साथ ही गलत काम भी करता है। इस बात की जानकारी उसने धार में जाकर युवती के परिजनों को दे दी थी। तीन दिन पहले वह युवती जब अपने घर पहुंची, तो परिजनों ने उससे पूछा तो उसने इशारे से उसके साथ दुष्कर्म करने की जानकारी दी। परिजन उसे लेकर स्थानीय थाने पहुंचे।

इंदौर के तुकोगंज थाने में इशारों की भाषा के आधार पर हुई कार्रवाई

मामले को गंभीरता से लेते हुए धार एसपी ने घटना की जानकारी डीआईजी भोपाल को दी। साथ ही इंदौर के तुकोगंज थाने में मूक-बधिर लोगों के लिए उपलब्ध सुविधा को देखते हुए पड़िता को वहां भेजा। इशारों की भाषा की विशेषज्ञ के सामने जब पीड़िता ने इशारों से अपना दर्द बयां किया, तो वहां मौजूद लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। पता चला कि यह लड़की वर्ष 2016 से छात्रावास में रह रही थी।

प्रशिक्षण पूरा करने के बाद भी अश्विनी शर्मा ने उसे ट्रेनिंग देने के नाम पर रोक रखा था। इस दौरान अश्विनी ने कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया। उधर अश्विनी की करतूत का पता चलते ही डीआईजी के निर्देश पर बुधवार को ही अवधपुरी पुलिस ने अश्विनी को उसके घर के पास से हिरासत में ले लिया।

इशारों के आधार पर बयान दर्ज होने के बाद धार पुलिस ने बुधवार को आरोपित अश्विनी के खिलाफ शून्य पर दुष्कर्म और छेड़छाड़ का केस दर्ज कर केस डायरी अवधपुरी थाना भेज दी। गुरुवार सुबह केस डायरी आने पर अवधपुरी पुलिस ने आरोपित अश्विनी शर्मा को विधिवत गिरफ्तार कर लिया। आरोपित से पूछताछ की जा रही है। पुलिस को आशंका है कि कुछ और पीड़ित इस मामले में शिकायत करने आ सकते हैं।

पॉक्सो एक्ट के तहत होगी कार्रवाई

पुलिस महानिरीक्षक इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर ने बताया कि इस संवेदनशील मामले में पुलिस अभी तहकीकात कर रही है। हॉस्टल की अन्य लड़कियों से भी पूछताछ की जाएगी। दोनों मूक-बधिर बच्चियों के मामले में संबंधित आरोपी पर पॉक्सो एक्ट के तहत भी कार्रवाई की जाएगी। प्रदेश के अन्य शहरों में मौजूद हॉस्टल में सुरक्षा और निगरानी के सवाल पर देउस्कर ने कहा कि इस संबंध में शासन के संबंधित विभाग द्वारा पहले से ही निर्देश दिए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि शर्मा के एनजीओ द्वारा अवधपुरी में आरती गर्ल्स और कृपाल बायज हॉस्टल संचालित किए जा रहे हैं।