खनियाधाना/शिवपुरी। शिवपुरी के खनियाधाना में चोरों ने बड़ी वारदात को अंजाम दिया है। चोरों ने एक मंदिर से 50 किलो सोने का कलश चुरा लिया है।

चोरी गए कलश की कीमत करीब 14 से 15 करोड़ बताई जा रही है। चोरों ने देर रात वारदात को अंजाम दिया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है। बताया जा रहा है कि पांच साल पहले भी इस कलश को चोरी करने की कोशिश की गई थी, लेकिन उस वक्त चोरों के मंसूबे कामयाब नहीं हो पाए थे। इससे पहले खनियाधाना और भोती के जैन मन्दिर से सदियों पुरानी जैन प्रतिमाएं भी चोरी जाती रही है, लेकिन इतनी बड़ी चोरी ने नगर की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए है। रियासतकालीन श्रीराम मंदिर राजमहल में बना हुआ है और मंदिर का कलश भी काफी पुराना है। ऐतिहासिक धरोहर होने से इसका महत्व और कीमत काफी ज्यादा हो सकती है।

राजमहल के अंदर स्थित इस मंदिर की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है तीन चार साल पहले बारिश की बजह से बाहर की दीवार गिर गई थी जो की आज तक नहीं बनाई गई है। शहर के बीच बस्ती मे यह मंदिर है। खनियाधाना एक स्वतंत्र रियासत थी। यहाँ कई प्राचीन मंदिर है लेकिन आज तक किसी पुरातत्व अधिकार ने यहा की सुध नही ली कोई भी मंदिर पुरातत्व विभाग के संरक्षण मे नहीं है।

मंदिर कलश चोरी के विरोध में आज बाजार बंद का निर्णय लिया गया है।लोगों के बढ़ते आक्रोश के बीच डॉग स्क्वैड एंव फिंगर प्रिंट एक्पर्ट मौके पर पहुंच गए हैं। एसडीओपी ने इस मामले में लोगों से 24 घंटे का समय मांगा है। बताया जा रहा है की करीब 1.5 महीने पहले मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए नांदेड़ ( महाराष्ट्र) के कारीगर आए थे। मंदिर 300 साल पुराना है। इस मंदिर के कलश का डिजाइन ओरछा के मंदिर का कलश दोनों एक समान थे।