Advertisements

LIVE: अविश्वास प्रस्ताव पर देर रात तक चलेगी बहस, जानिए दिन भर क्या हुआ

नई दिल्ली। टीडीपी द्वारा पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव पर सुबह 11 बजे से लोकसभा में बहस की शुरुआत हुई। टीडीपी और भाजपा सांसद के बाद राहुल गांधी बोलने आए। वो तकरीबन एक घंटे तक बोले और राफेल डील से लेकर किसान, गरीब और महिलाओं के मुद्दे पर बोले।

लाइव अपडेट्स

इस बीच ऐसी जानकारी सामने आ रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रात 9 बजे के बाद अविश्वास प्रस्ताव पर भाषण देंगे। इस दौरान वो केंद्र सरकार की योजनाओं की जानकारी दे सकते हैं।

इस बीच अविश्वास प्रस्ताव पर टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी ने केंद्र सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि, “हमारी पार्टी और नेता ममता बनर्जी टीडीपी और आंध्र प्रदेश की जनता के साथ हैं। उन्होंने सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि, आज क्या स्थिति हो गई है कि बीजेपी के सहयोगी रह चुकी टीडीपी को सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाना पड़ रहा है।”

राहुल गांधी ने अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ संसद में जो भाषण दिया था, उसमें राफेल डील को लेकर जो बातें कही थी, उस पर फ्रांस सरकार का जवाब सामने आया है। फ्रांस सरकार ने राहुल गांधी के संसद में दिए बयान को झुठला दिया है। फ्रांस सरकार ने अपना बयान जारी करते हुए कहा कि, “हमने राहुल गांधी का बयान देखा है। फ्रांस और भारत के बीच 2008 में सुरक्षा करार हुआ था, उसके तहत दोनों देश डील के बारे में खुफिया जानकारी साझा नहीं कर सकते हैं।”

इस पर राहुल गांधी ने भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, “मैं अब भी अपने बयान पर कायम हूं। मैंने कुछ भी गलत नहीं कहा है। फ्रांस को खंडन करना है तो करे। मेरे साथ मनमोहन सिंह और आनंद शर्मा भी थे।”

लोकसभा में अभी भी अविश्वास प्रस्ताव पर बहस चल रही है। उस पर फिलहाल लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे बोल रहे हैं। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बोल रहे हैं। खड़गे ने सरकार पर आरोप लगाया कि, सरकार की कथनी और करनी में बहुत फर्क है। खड़गे ने सीधे भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि, “आप समाज तोड़ रहे हो, लोकतंत्र खत्म होगा। भाजपा ने सिर्फ 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई है।”

मल्लिकार्जुन खड़गे ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह के लोकतंत्र वाले बयान पर जवाब देते हुए कहा कि, अगर आज हम आपके जैसे चलते तो लोकतंत्र खत्म ही हो जाता।

इससे पहले एनसीपी सांसद अनवर ने कहा कि,” आज सदन में बहुमत भले ही साबित कर दिया जाए, लेकिन सदन के बाहर जनता इस जुमले वाली सरकार को सत्ता से बाहर करना चाहती है। आने वाले चुनाव में जनता बीजेपी सरकार को सबक सिखाएगी।”

अविश्वास प्रस्ताव पर एनसीपी सांसद तारिक अनवर ने कहा कि, “प्रधानमंत्री राम राज की बात करते हैं, लेकिन अगर यही राम राज है तो रावण राज क्या होगा।”

बहस में उस वक्त संसद का माहौल थोड़ा हल्का हो गया था। जब राहुल गांधी अपना भाषण खत्म करके सीधे पीएम मोदी से जाकर गले मिल लिए। खुद पीएम मोदी को भी इस यकीन नहीं हुआ। बाद में पीएम मोदी ने भी उनसे हाथ मिलाया। इसके बाद जब राहुल गांधी अपनी सीट पर गए तो उनकी आंख मारने की तस्वीर सामने आई। इस पर सोशल मीडिया पर भी जमकर चुटकी ली गई।

इसपर लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने भी नाराजगी जताई। उन्होंने सदन में कहा कि, “राहुल गांधी का पीएम मोदी को इस तरह से गले लगाना सही नहीं है। वो इस वक्त देश के प्रधानमंत्री हैं, न की नरेंद्र मोदी। मैं गले लगाने के खिलाफ नहीं हूं। मैं भी एक मां हूं और जानती हूं कि भावनाएं क्या होती हैं। राहुल गांधी का आंख चमकाना भी सदन की गरिमा के लिहाज से सही नहीं है। मैं चाहती हूं कि सब लोग प्रेम से रहें। राहुल भी मेरे बेटे जैसे हैं।”

मुलायम सिंह ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

मुलायम ने कहा कि यूपी में बीजेपी के लोग ही रो रहे हैं, “अकेले में आपको नाम भी गिना सकता हूं। उन्होंने कहा कि हम तो चलो विपक्ष में हैं, लेकिन योगी सरकार अपनी पार्टी के लोगों की ही नहीं सुन रही है।

वहीं सीपीएम सांसद मोहम्मद सलीम ने भी सरकार पर आरोपों की बौछार कर दी। सलीम ने कहा कि,” सरकार कहती है 70 साल में जो नहीं हुआ वो हमने कर दिखाया। लेकिन दूसरी ओर 70 साल में देश बर्बाद हुआ तो आपने 4 साल वही करके दिखा दिया। आप कांग्रेस के रास्ते पर ही चल रहे हो, सलीम ने कहा कि सरकार ने नोटबंदी के नाम पर सबसे बड़ी आर्थिक भूल की जिससे कुछ भी हासिल नहीं हुआ।”

अनावश्यक है अविश्वास प्रस्ताव: राजनाथ सिंह

मुलायम सिंह के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ बोलने आए। उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए इस अविश्वास प्रस्ताव को अनाश्वयक बताया। राजनाथ सिंह ने कहा कि, पीएम मोदी को देश का विश्वास हासिल है। अविश्वास प्रस्ताव लाने वाले जनता का विश्वास नहीं पढ़ पाए। जब राजनाथ सिंह बोल रहे थे, उस वक्त हंगामा हो गया। इस वजह से सदन की कार्यवाही कुछ देर के लिए स्थगित कर दी गई।

‘मॉब लिंचिंग पर जरूरत पड़ी तो कड़ा कानून लाएंगे’

राजनाथ ने कहा कि, संसद पर हमला करने वालों के खिलाफ सहानुभूति दिखाने वाले आज हिन्दू तालिबान और हिन्दू पाकिस्तान की बात बोलते हैं। विपक्षी दलों को भारत की परंपरा को समझना चाहिए। रावण को शैतान माना गया है, लेकिन मृत्यु शैया पर उसके सम्मान की परंपरा भी भारत में रही है।

वहीं मॉब लिंचिंग पर बोलते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि,” यह घटनाएं नहीं होनी चाहिए और कड़ाई से इस पर कार्रवाई हो। इसपर कानून की जरूरत हो तो वो भी बनाएंगे।”

राहुल के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाएगी भाजपा

इस बीच रक्षा मंत्री पर राफेल डील पर झूठ बोलने का आरोप लगाने वाले राहुल गांधी के खिलाफ सरकार विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाएगी। इस बारे में संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने इसका जानकारी दी। उन्होंने बताया कि, “भाजपा सांसद राहुल गांधी द्वारा संसद को गुमराह करने के मामले में विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाएंगे।”

इतना ही नहीं अनंत कुमार ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि, “राहुल का व्यवहार बचकाना है। ये बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस अध्यक्ष अपरिपक्व हैं और उनके पास जानकारी का अभाव है।”

इससे पहले भाषण के बाद ऐसा मौका भी आया, जब राहुल गांधी सीधे पीएम मोदी के पास गए और उनके गले मिल लिए। एकबारगी तो पीएम भी हैरान रह गए। फिर उन्होंने भी राहुल गांधी को वापस बुलाय़ा और उनसे हाथ मिलाया।

इससे पहले राहुल गांधी ने सरकार पर जमकर हमला बोला था। अपने भाषण की शुरुआत में उन्होंने मौजूदा सरकार को जुमलों की सरकार ठहराया। वहीं रोजगार के मामले में राहुल गांधी ने कहा कि,”पीएम ने दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी। इस दौरान राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर सीधे-सीधे रक्षा मंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने पीएम मोदी के दबाव में देश से झूठ बोला है।”

राहुल गांधी ने महिला सुरक्षा के मुद्दे पर भी सरकार को घेरने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि, “हिंदुस्तान अपनी महिलाओं की सुरक्षा नहीं कर पा रहा है। देश में सामूहिक दुष्कर्म की वारदातें हो रही हैं। मोदी जी के मंत्री आरोपियों के गले में माला डालते हैं। वहीं देश में जब दलितों, आदिवासियों पर अत्याचार होता है तो भी पीएम मोदी चुप रहते हैं।”

इतना ही नहीं उन्होंने पीएम मोदी पर सीधा निशाना साधते हुए कहा कि,” वो जहां जाते हैं, वहां रोजगार की बातें करते हैं। कभी कहते हैं पकौड़े बनाओ, कभी दुकान खोले। पीएम ने नोटबंदी किया। शायद उन्हें ये समझ ही नहीं थी कि किसान, मजदूर, गरीब अपना धंधा कैश में चलाते हैं। ”

राहुल गांधी लोकसभा में जब भाषण दे रहे थे तो एक लम्हा ऐसा आया जब पीएम मोदी उन्हें देखकर मुस्कुरा रहे थे। दरअसल राहुल गांधी ने पीएम मोदी को लेकर कहा कि, “प्रधानमंत्री अपनी आंख मेरी आंख में नहीं डाल सकते हैं।”

इस बीच पीएम मोदी पर राहुल गांधी के आरोपों पर भाजपा भड़क गई और सदन में हंगामा शुरू हो गया। इसे देखते हुए लोकसभा स्पीकर ने दस मिनट के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी।

इतना ही नहीं टीडीपी सांसद जयदेव गाला ने पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि, “आप अलग धुन में बात कर रहे हैं, जिसे आंध्र प्रदेश की जनता समझ रही है और आने वाले चुनाव में उसका मुंहतोड़ जवाब देगी। भाजपा का भी वैसा ही हाल होगा, जैसा कांग्रेस का आंध्र प्रदेश में हुआ था। पीएम मोदी ये धमकी नहीं, ये शाप है।”

इसके बाद जबलपुर से भाजपा सांसद राकेश सिंह ने अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ बोलना शुरू किया। उनके निशाने पर कांग्रेस रही। राकेश सिंह ने कहा कि, “कांग्रेस को एक ही परिवार की सरकार स्वीकार है। इतना ही नहीं टीडीपी पर भी निशाना साधते हुए राकेश सिंह ने कहा कि, दुर्भाग्य है कि टीडीपी कांग्रेस के साथ खड़ी है। ऐसा करके वो खुद ही शापित हो गई है।”

Hide Related Posts