Advertisements

BJP का दावा, अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ मिलेगा 314 सांसदों का साथ

नई दिल्लीः भाजपा ने बुधवार को उम्मीद जताई है कि नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष की ओर से लाये गए अविश्वास प्रस्ताव पर शुक्रवार को होने वाले मत विभाजन में सरकार को 314 सांसदों का समर्थन मिलेगा। पार्टी नेताओं के आकलन के मुताबिक सरकार को राजग के घटक दलों के अलावा अंबुमणि रामदास की अगुवाई वाले पीएमके और राजू शेट्टी के नेतृत्व वाले स्वाभिमानी पक्ष से भी समर्थन मिलने की उम्मीद है।

Loksabha

हालांकि शेट्टी और रामदास अब राजग में शामिल नहीं हैं, इसके बावजूद सरकार को उम्मीद है कि वे मत विभाजन के दौरान प्रस्ताव का विरोध करेंगे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार को लोकसभा में 314 सदस्यों का समर्थन मिलेगा। निचले सदन में फिलहाल 535 सदस्य हैं। ऐसे में सरकार को 268 सांसदों के समर्थन की जरूरत है। इन 314 सांसदों की सूची में लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन का मत शामिल नहीं हैं। वह इंदौर से भाजपा की सांसद हैं।

Loksabha

मौजूदा स्थिति में भाजपा के पास बुहमत
संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि राजग एकजुट है और अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ मतदान करेगा। उन्होंने कहा, “हमें राजग के बाहर के दलों से भी समर्थन मिलने की उम्मीद है। यह अजीब है कि भाजपा के अकेले दम पर बहुमत हासिल करने और 21 राज्यों में सत्तासीन होने के बावजूद विपक्ष अविश्वास प्रस्ताव लाया है।’’

Loksabha

भाजपा ने जारी किया व्हिप
कुमार ने कहा कि पार्टी ने अपने लोकसभा सदस्यों को अगले दो दिन के लिए व्हिप जारी किया है और उन्हें सदन में उपस्थित रहने को कहा है। वर्तमान स्थिति में लोकसभा में राजग के सदस्यों की संख्या 313 है। इसमें लोकसभा अध्यक्ष को लेकर भाजपा के 274, शिवसेना के 18, लोजपा के छह और शिअद के छह सदस्य हैं।

Loksabha

वहीं विपक्षी दलों की संख्या 222 बतायी जा रही है। इनमें कांग्रेस के 63, अन्नाद्रमुक के 37, तृणमूल कांग्रेस के 34, बीजद के 20, तेदेपा के 16 और टीआरएस के 11 सदस्य शामिल हैं।