रेलवे के लिए कैंसिल टिकट बड़ी आय का साधन

Advertisements

भोपाल। सामान्य उपभोक्ता के लिए रेलवे का टिकट कैंसिल कराने पर कटने वाली कुछ राशि का भले ही बहुत महत्व न हो, लेकिन रेलवे के लिए देशभर में कैंसिल होने वाले ऐसे टिकट बड़ी आय का साधन हैं। रेलवे के आंकड़े बताते हैं कि वेटिंग टिकट के कैंसिल होने और अन्य कारणों से रद्द होने वाली टिकटों पर 2016-17 में रेलवे ने लगभग 1400 करोड़ रुपए से ज्यादा कमाई की है।

कैंसिल टिकट से होने वाली रेलवे की कमाई साल दर साल बढ़ रही है। सामाजिक कार्यकर्ता राजीव खरे ने इसे लेकर भारतीय रेलवे से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी थी। रेलवे ने बताया है कि 2015-16 में कैंसिल टिकट से 1104 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई हुई थी। वहीं 2016-17 में यह बढ़कर 1386 करोड़ रुपए हो गई। भारतीय रेलवे ने 2016-17 में एक लाख 64 हजार करोड़ रुपए का राजस्व कमाया था।

जबलपुर जोन ने कमाए 41 करोड़ रुपए

कैंसिल टिकट से आधा मध्यप्रदेश कवर करने वाले पश्चिम मध्य रेलवे को 2016-17 में 41 करोड़ रुपए आय हुई है। जबकि एक साल पहले यह 36 करोड़ रुपए थी।

हर घंटे 16 लाख रुपए होती है कमाई

एक औसत है कि भारतीय रेलवे को हर घंटे कैंसिल टिकट से 16 लाख रुपए की आय होती है। वहीं एक दिन में औसतन करीब 3 करोड़ 80 लाख रुपए रेलवे कमाती है।

वेटिंग टिकट कैंसिल होने का भी पैसा लेती है रेलवे

सामाजिक कार्यकर्ता राजीव खरे ने आरोप लगाया कि यदि कोई व्यक्ति ऑनलाइन वेटिंग टिकट लेता है और चार्ट तैयार होने पर उसका रिजर्वेशन कंफर्म नहीं होता तो रेलवे वेटिंग टिकट कैंसिल करने का भी पैसा लेता है। जबकि इसमें पैसेंजर की कोई गलती नहीं होती। उन्होंने कहा कि जब पैसेंजर खुद टिकट कैंसिल करवाए, तभी यह चार्ज वसूला जाना चाहिए। इसे लेकर राजीव खरे जल्द ही कोर्ट में एक जनहित याचिका भी दाखिल कर रहे हैं।

Advertisements