चित्रकूट विधानसभा के प्रत्याशी चयन पर भाजपाई मंथन अवस्थी ओर गहरवार दौड़ में

Advertisements

भोपाल। आज चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव के लिए बीजेपी प्रत्याशी के चयन के मुददे पर आज प्रदेश भाजपा कार्यालय में प्रदेश चुनाव समिति की बैठक हो रही है। इसमें चित्रकूट चुनाव पर मंथन होगा।बैठक में प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, खनिज मंत्री राजेन्द्र शुक्ल, रीवा सम्भाग के संगठनात्मक प्रभारी एवं प्रदेश महामंत्री बीडी शर्मा, पूर्व केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह, कृष्ण मुरारी मोघे, विक्रम वर्मा शामिल हुए। बैठक में दावेदारों के नाम पर सहमति की मुहर लगाई जाएगी।प्रदेश में दो सीटों पर उपचुनाव होने हैं, लेकिन अभी चित्रकूट में उपचुनाव का एलान चुनाव आयोग ने कर दिया है| चित्रकूट विधानसभा सीट कांग्रेस विधायक प्रेम सिंह और मुंगावली विधानसभा सीट कांग्रेस के विधायक महेंद्र ​सिंह कालूखेडा के निधन से खाली हुई है। कांग्रेस की इन दोनों सीट को भाजपा छीनने के लिए पुरजोर कोशिश कर रही है। आज हो रही बैठक में चित्रकूट में भाजपा प्रत्याशी के नाम पर मुहर लगेगी अथवा पैनल बनाकर प्रदेश चुनाव समिति राष्ट्रीय नेतृत्व को भेजा जाएगा । इसके बाद अंतिम निर्णय दिल्ली में होगा। प्रत्याशी की घोषणा केंद्रीय इकाई करेगी। हालांकि भोपाल में लिए गए निर्णय ही तय माने जाते हैं|

कौन है रेस में

आगामी नौ नवंबर को होने वाले चित्रकूट उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रत्याशी कौन होगा इसक फैसला आज हो जाएगा|  पूर्व विधायक सुरेंद्र सिंह गहरवार और पूर्व डीएसपी पन्नालाल अवस्थी के बीच टिकट की जोर आजमाइश चल रही है। माना जा रहा है कि  गहरवार का नाम रासे में सबसे आगे चल रहा है|

नेता प्रतिपक्ष की साख रहेगी दांव पर 

कांग्रेस विधायक प्रेमसिंह के निधन के बाद से रिक्त हुई चित्रकूट विधानसभा सीट को बचाने के लिए पार्टी के सामने चुनौती है। क्षेत्र के प्रभावी कांग्रेस नेता व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की साख फिर से दांव पर रहेगी। इस सीट पर दिवगंत विधायक के परिवार के सदस्यों के अलावा तीन अन्य नेताओं की दावेदारी अब तक सामने आई है, जिनमें से प्रत्याशी का चयन होना है।चित्रकूट में प्रेम सिंह के 29 मई 2017 को निधन के बाद से विधानसभा सीट रिक्त है। चित्रकूट सीट के उपचुनाव के लिए कांग्रेस संगठन नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह को पूरी जिम्मेदारी दे सकता है। वह क्षेत्र में लगातार दौरे भी कर रहे हैं। उपचुनाव को देखते हुए स्थानीय नेताओं की सक्रियता भी बढ़ी है।चित्रकूट के दिवंगत विधायक प्रेम सिंह के परिवार से उनकी भतीजी मिथलेश, दामाद संजय सिंह व भतीजा मंगल सिंह की दावेदारी है। इन तीनों की गैर राजनीतिक पृष्ठभूमि है। जिला पंचायत सदस्य रहीं गीता सिंह पघार चुनाव लड़ने की तैयारी में है। दूसरी तरफ पूर्व सांसद और पुराने समाजवादी नेता रहे रामानंद सिंह ने अपने बेटे राजवंश सिंह के लिए कांग्रेस हाईकमान में पहुंच की है।

सतना जिले का दूसरा उपचुनाव

प्रदेश में अब तक 11 उपचुनाव हो चुके हैं। आने वाले दिनों में दो उपचुनाव और होना हैं। सतना जिले का चित्रकूट का दूसरा उपचुनाव है। इसके पहले मैहर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक निर्वाचित हुए नारायण त्रिपाठी ने अगस्त 2015 को सदस्यता से इस्तीफा दिया था और फरवरी 2016 को उपचुनाव में त्रिपाठी ही दोबारा विधायक चुनकर विधानसभा पहुंचे।

Advertisements