Advertisements

बडी खबर: वरिष्‍ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक का हार्ट अटैक से निधन

नई दिल्ली. संपादक और वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक का गुरुवार की देर रात मध्यप्रदेश के इंदौर में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. गुरुवार रात करीब साढ़े 10 बजे इंदौर स्थित दैनिक भास्कर के दफ्तर में काम के दौरान ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा. इसके बाद उन्हें तुरंत बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया. अस्पताल में करीब साढ़े तीन घंटे तक डॉक्टरों ने उनका इलाज किया. लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ. बॉम्बे हॉस्पिटल के डॉक्टरों के अनुसार इलाज के दौरान ही कल्पेश याग्निक को दूसरी बार दिल का दौरा पड़ा. इसके बाद रात करीब 2 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. उनका अंतिम संस्कार आज इंदौर में किया जाएगा.

इंदौर से ही शुरू किया था पत्रकारिता का सफर
अपनी लेखनी के जरिए संस्थागत उत्कृष्टता के लिए पहचाने जाने वाले कल्पेश याग्निक का जन्म 21 जून 1963 को हुआ था. दैनिक भास्कर अखबार में जुड़ने से पहले वे अंग्रेजी पत्रकारिता में थे. उन्होंने अपने पत्रकारिता के सफर की शुरुआत इंदौर से प्रकाशित अखबार फ्री प्रेस से की थी. निष्पक्ष और बेबाक लेखन, बेहतरीन आइडिया और कार्य-कुशलता के लिए कल्पेश याग्निक का नाम देश के अग्रणी पत्रकारों में लिया जाता है. वर्ष 1998 में दैनिक भास्कर अखबार समूह से जुड़ने के बाद उन्होंने इस अखबार को बुलंदियों तक पहुंचाया. दैनिक भास्कर में अपने कार्यकाल के दौरान वे कई वर्षों तक राजस्थान में भी रहे, जहां उन्हें अखबार में नवाचार और प्रयोग के लिए जाना गया.