Advertisements

पहले वनडे में बरपा कुलदीप का कहर, दुनिया के बाएं हाथ के पहले स्पिन गेंदबाज बने, जानिए कैसे

खेल डेस्क। भारत के कुलदीप यादव के लिए गुरुवार को नॉटिंघम के ट्रेंटब्रिज में पहला वनडे यादगार बन गया। कुलदीप यादव ने इस मैच में कई विश्व रिकॉर्ड बनाए। वे अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच में 6 विकेट लेने वाले दुनिया के बाएं हाथ के पहले स्पिन गेंदबाज बने।

कुलदीप ने इस मैच में 25 रनों पर 6 विकेट लिए, यह किसी भी बाएं हाथ के स्पिनर का अंतरराष्ट्रीय वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। पहली बार किसी बाएं हाथ के‍ स्पिनर ने अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट मैच में 6 विकेट लिए।

यह है कुलदीप का कमाल :

  • – यह किसी भी बाएं हाथ के स्पिनर का वनडे क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।
  • – यह किसी भी स्पिनर का इंग्लैंड में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।
  • – यह किसी भी स्पिनर का इंग्लैंड के खिलाफ वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।
  • – यह वनडे क्रिकेट में भारत की तरफ से चौथा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

 किसी स्पिनर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन :

कुलदीप ने 25 रनों पर 6 विकेट लिए। यह किसी भी स्पिनर का इंग्लैंड में वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इससे पहले यह रिकॉर्ड पाक के शाहिद अफरीदी के नाम था, जिन्होंने एजबेस्टन में 2004 में केन्या के खिलाफ 11 रनों पर 5 विकेट लिए।

 वनडे में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन :

4 रनों पर 6 विकेट : स्टुअर्ट बिन्नी बनाम बांग्लादेश (मीरपुर 2014)

12 रनों पर 6 विकेट : अनिल कुंबले बनाम वेस्टइंडीज (कोलकाता 1993)

23 रनों पर 6 विकेट : आशीष नेहरा बनाम इंग्लैंड (डरबन 2003)

25 रनों पर 6 विकेट : कुलदीप यादव बनाम इंग्लैंड (नॉटिंघम 2018)

कुलदीप ने इस मैच में जोस बटलर के रूप में चौथा शिकार कर इतिहास रचा। यह किसी भी चाइनामैन गेंदबाज का इंग्लैंड में अंतरराष्ट्रीय वनडे में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। कुलदीप ने जैसे ही जोस बटलर (53) को विकेटकीपर धोनी के हाथों झिलवाकर इस पारी में चौथा विकेट हासिल किया, उन्होंने अपना नाम इतिहास में दर्ज करवा दिया।

वे इंग्लैंड में किसी वनडे पारी में चार विकेट लेने वाले दुनिया के पहले चाइनामैन गेंदबाज बने, उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के ब्रेड हॉग का रिकॉर्ड ध्वस्त किया। हॉग ने 2005 में मैनचेस्टर में बांग्लादेश के खिलाफ 29 रनों पर 3 विकेट लिए थे।

कुलदीप का कहर 

नॉटिंघम में बल्लेबाजों की मददगार पिच पर कुलदीप ने ऐसा मायाजाल बिछाया कि मेजबान बल्लेबाज उसमें उलझते रहे। उन्होंने जेसन रॉय (38) को उमेश यादव के हाथों झिलवाकर मेहमानों को पहली सफलता दिलाई। जो रूट उनके अगले शिकार बने और मात्र 3 रन बनाकर बैकफुट पर खेलने के चक्कर में एलबीडब्ल्यू हुए। इसके बाद कुलदीप ने महत्वपूर्ण सफलता हासिल की जब लय में नजर आ रहे जॉनी बेयरस्टो को उन्होंने पैवेलियन लौटाया। बेयरस्टो के खिलाफ उनकी एलबीडब्ल्यू की अपील को अंपायर ने ठुकराया, लेकिन भारत ने रिव्यू लिया जिसमें थर्ड अंपायर ने फैसला गेंदबाज के पक्ष में दिया। कुलदीप ने बटलर के रूप में चौथा विकेट लेकर एक रिकॉर्ड बनाया।

कुलदीप ने इसके बाद बेन स्टोक्स के रूप में पांचवां विकेट हासिल किया। उन्होंने इसके बाद डेविड विली को पैवेलियन लौटाते हुए अपना छठा विकेट लिया। उन्होंने इस मैच में 25 रनों पर 6 विकेट लिए।