बुराड़ी कांड: डेढ़ वर्ष पहले तन्त्र साधना के लिये उज्जैन आया था भाटिया परिवार,

Advertisements

उज्जैन। पूरे देश को हिला देने वाले बुराड़ी कांड की गुत्थी सुलझाने में दिल्ली पुलिस काफी कोशिश कर रही है लेकिन शायद आपको जानकारी हैरानी होगी कि डेढ़ साल पहले भाटिया परिवार धार्मिक नगरी उज्जैन आया था. पूरे परिवार ने उज्जैन के भृतरी गुफा और गढ़कालिका क्षेत्र में तांत्रिक क्रियाएं की थीं. लेकिन जब तांत्रिक ने लाखों रूपये की डिमांड की तो भाटिया परिवार रुपये नहीं दे पाया. इसके बाद तांत्रिक ने उनके पूरे परिवार के विनाश का श्राद्ध दे दिया था. इस पूरे घटनाक्रम का एक प्रत्यक्षदर्शी भी सामने आया है.

दिल्ली के बुराड़ी कांड को लेकर कई तरह के अंधविश्वास और तांत्रिक क्रियाओं की बात सामने आ रही है लेकिन यह बात सही है कि भाटिया परिवार तंत्र साधना में विश्वास करता था.परिवार में परेशानी के चलते और परिवार के एक सदस्य की मौत हो जाने के बाद डेढ़ साल पहले भाटिया परिवार उज्जैन भी आया था. भाटिया परिवार ने उज्जैन में गोपीनाथ नामक एक तांत्रिक को तंत्र क्रिया करने के लिए बुलाया था. तंत्र क्रिया करने के लिए भृतहरि गुफा और गढ़कालिका क्षेत्र चुना गया था. तभी वहां उज्जैन के श्रीकांत कुमार दर्शन करने के लिए पहुंचे थे

श्रीकांत कुमार की मुलाकात वहां भाटिया परिवार से हुई. श्रीकांत कुमार ने बताया कि श्रीकांत ने कहा कि भाटिया परिवार में किसी व्यक्ति की मौत हो गई थी, जिसके बाद भाटिया परिवार उज्जैन में तंत्र क्रिया करने के लिए उज्जैन आए थे और अघोर तंत्र के जरिए वह उनके परिवार के सदस्य को पुन: जीवत करने के लिए क्रियाएं कर रह थे. इसके बाद तय रकम ना देने पर तांत्रिक ने नाराज होकर उन सबके विनाश का श्राप दे दिया था. ठीक डेढ साल बाद पूरे परिवार की एक साथ घर से लाशें मिलीं.

Advertisements