शाम तक समझौते का पालन नहीं तो मोदी की सभा के विरोध के लिए तैयार रहे वसुंधरा सरकार

Advertisements

नेशनल डेसक। गुर्जर समाज एक बार फिर वसुंधरा राजे सरकार से नाराज हो गया है. गुर्जर समाज ने समझौते के बिंदुओं का पालन नहीं होने पर सात जुलाई को जयपुर में प्रस्तावित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभा का विरोध करने की धमकी दी है. समझौते के पालन के लिए गुर्जर नेताओं ने सरकार को सोमवार शाम तक का अल्टीमेटम दिया है. सोमवार तक आदेश नहीं निकले तो गुर्जर समाज पीएम की सभा का विरोध करेगा.

गुर्जर समाज के प्रतिनिधियों ने रविवार को इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में कैबिनेट सब कमेटी के साथ हुई बैठक में सरकार के प्रति नाराजगी जताई. मंत्री राजेन्द्र राठौड़, अरुण चतुर्वेदी और वासुदेव देवनानी समेत आला अधिकारियों के साथ हुई बैठक में गुर्जर समाज की तरफ से कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला की अगुवाई में हिम्मत सिंह सहित 11 सदस्यीय प्रतिनिनिधिमंडल ने समझौते के 16 बिंदुओं के पालन को लेकर विस्तृत चर्चा की.

करीब दो घंटे चली बैठक में गुर्जर नेता सरकार के रवैये से असंतुष्ट नजर आए तो, मंत्रियों ने समझौते के हर बिंदु के पालन करने का आश्वासन दिया. इस दौरान आईजीपीआरएस में पुलिस के कड़े बंदोबस्त रहे. बैठक में गुर्जर समाज के शिक्षकों को प्रतिबंधित जिलों में पोस्टिंग देने का मुद्दा भी उठा.

गुर्जर नेता बोले वार्ता से संतुष्ट नहीं हैं
कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा अब तक समझौते का पालन नहीं हुआ है. हमने सोमवार शाम तक का समय दिया है. गुर्जर नेता हिम्मत सिंह ने कहा कि सरकार सोमवार तक आदेश निकाले. सोमवार शाम पांच बजे तक आदेश नहीं निकाले तो हम पीएम की सभा का विरोध करेंगे. गुर्जर नेता एडवोकेट शैलेन्द्र सिंह ने कहा कि समझौते के बिंदुओं का पालना नहीं हुआ है. वे बैठक से संतुष्ट नहीं हैं.

मंत्रियों ने कहा वार्ता सफल रही
वहीं मंत्रियों ने कहा कि बैठक सफल रही. मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि सौहार्दपूर्ण माहौल में बातचीत हुई है. समझौते के एक दो बिंदुओं के आदेश होने बाकी हैं. सोमवार तक आदेश निकाल दिए जाएंगे. पीएम मोदी की सभा के विरोध के सवाल पर राठौड़ ने कहा कि आदेश जारी हो जाएंगे, विरोध की नौबत नहीं आएगी.

पहले से ही दे रखा था अल्टीमेटम
उल्लेखनीय है कि गुर्जर समाज ने पिछले दिनों सरकार से हुए समझौते के 16 बिंदुओं का पालन नहीं होने पर सरकार को पहले से ही अल्टीमेटम दे रखा था. गुर्जर नेताओं ने सात जुलाई को पीएम नरेन्द्र मोदी से मिलकर बात रखने की चेतावनी दी थी. गुर्जर समाज के इस अल्टीमेटम के बाद कैबिनेट सब कमेटी ने रविवार को गुर्जर नेताओं को वार्ता के लिए बुलाया था.

Advertisements