चर्चा यह भी : प्रियंका की कोशिश, क्या कांग्रेस में आने वाले हैं वरुण गांधी?

Advertisements

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की छोटी बहन प्रियंका गांधी आजकल पार्टी की निर्णय प्रक्रिया में बढ़चढ़ कर भाग ले रही हैं। राहुल गांधी द्वारा अपने आधिकारिक आवास 12 तुगलक रोड पर ली जाने वाली सभी महत्वपूर्ण बैठकों में प्रियंका भाग ले रही हैं।
Yashbharat

Yashbharat
हालांकि वह सरकार में मंत्री पद पर हैं बावजूद इसके भाजपा हाईकमान उनसे भी दूरी बनाए हुए है। वह पार्टी के निर्णायक मामलों में कहीं नहीं दिखतीं जबकि उनसे कनिष्ठ महिलाओं जैसे निर्मला सीतारमण व स्मृति ईरानी को पार्टी खासी तवज्जो दे रही है। कांग्रेस में वरुण को वापस लाने की मुहिम शुरू हो गई है। फैसले को अभी अमलीजामा इसलिए नहीं पहनाया जा रहा क्योंकि प्रियंका नहीं चाहती हैं कि पार्टी में 2 शक्ति केंद्र बनें। जहां तक राहुल का सवाल है तो वह वरुण गांधी से पिछले 2 सालों में केवल 2 बार ही मिले और उस दौरान भी उन्होंने उनसे कोई राजनीतिक बात नहीं की।
Yashbharat
प्रियंका गांधी भाजपा व मोदी पर हमला बोलने के लिए रणनीति तैयार करने में राहुल की सहायता कर रही हैं। हाल ही के महीनों में मोदी पर राहुल के हमलों में जो तीखापन आया है वह सब प्रियंका की ही देन है। प्रियंका और राहुल गांधी मिलकर संयुक्त रूप से उन मुद्दों को उठाते हैं जो मोदी व भाजपा के लिए नुक्सानदायक हों। प्रियंका की सलाह पर ही राहुल ने कई वरिष्ठ नेताओं जैसे हुड्डा व दिग्विजय सिंह जैसों से किनारा किया।

Advertisements