बारिश ने रोकी अमरनाथ यात्रा, हजारों श्रद्धालु फंसे

Advertisements

जम्मू। जम्मू कश्मीर में मूसलधार बारिश के चलते शुक्रवार को दूसरे दिन पहलगाम व बालटाल दोनों रास्तों से श्री अमरनाथ यात्रा स्थगित रही। दोनों मार्गों से किसी भी श्रद्धालु को पवित्र गुफा की तरफ जाने की अनुमति नहीं दी गई। इससे हजारों श्रद्धालु बालटाल और पहलगाम आधार शिविरों में फंस गए हैं।

इधर, जम्मू से निकला 2876 श्रद्धालुओं का तीसरा जत्था भी जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर ऊधमपुर से रामबन तक भूस्खलन से छह घंटे रास्ता बंद हो जाने से जाम में फंसा रहा। हाईवे खुलने के बाद बालटाल मार्ग वाले जत्थे को आगे रवाना कर दिया, लेकिन पहलगाम रूट वाले जत्थे को ऊधमपुर में ही रोक लिया गया।

मौसम में सुधार के बाद शनिवार को बालटाल, पहलगाम, ऊधमपुर व जम्मू से श्रद्धालुओं को आगे रवाना करने का फैसला लिया जाएगा। सभी जगह फंसे श्रद्धालुओं को प्रशासन हर संभव सुविधा देने के प्रयास में जुटा है।

श्री अमरनाथ यात्रा गत गुरुवार को शुरू हुई थी, लेकिन पहले दिन भी बारिश के चलते बालटाल से मात्र 1316 और पहलगाम से 60 श्रद्धालु ही दर्शनों के लिए रवाना हो सके थे। पहले दिन 1007 शिव भक्तों ने पवित्र हिमलिंग के दर्शन किए थे।

उम्मीद थी कि मौसम साफ होने के बाद शुक्रवार को यात्रा शुरू हो जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। पहलगाम में शुक्रवार 11ः20 बजे बारिश का सिलसिला कुछ देर के लिए थम जाने पर लगभग 1000 श्रद्धालुओं को चंदनवाड़ी की तरफ रवाना किया गया, लेकिन फिर बारिश शुरू हो जाने से इन श्रद्धालुओं को वापस पहलगाम आधार शिविर लाया गया। वहीं बालटाल मार्ग पर बारिश के कारण काली माता रास्ते को नुकसान पहुंचा है।

उसे ठीक किया जा रहा है। इस कारण इस रास्ते पर भी यात्रा को नहीं छोड़ा गया। पहलगाम में करीब चार हजार और बालटाल में भी तीन हजार श्रद्धालु फंस कर रह गए हैं।

इस बीच, बांडीपोरा के जिला विकास आयुक्त खुर्शीद अहमद ने शादीपोरा सुंबल ट्रांजिट कैंप का दौरा कर अमरनाथ यात्रियों के लिए किए गए प्रबंधों का जायजा लिया।उन्होंने सभी विभागों को श्रद्धालुओं को हरसंभव सुविधा देने के निर्देश दिए।

हाईवे बंद होने से फंसे यात्री : शुक्रवार तड़के करीब पांच बजे मूसलधार बारिश से जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर रामबन के डिगडोल, पंतिहाल, गांगरू सहित कुछ अन्य जगहों पर भूस्खलन हुआ।

ऊधमपुर के पास भी पहाड़ से पत्थर हाईवे पर आ गए। ऊधमपुर में गिरे मलबे को तो फौरन हटाकर रास्ता खोल दिया गया, मगर रामबन जिले में रास्ता 11 बजे खुल सका। करीब छह घंटे हाईवे बंद रहने से लंबा जाम लग गया।

इसमें श्री अमरनाथ के दर्शन कर लौट रहे श्रद्धालु और जम्मू से निकला 2876 श्रद्धालुओं का तीसरा जत्था भी फंस गया।

पुलिस ने कड़ी मशक्कत कर बारिश के बीच बालटाल मार्ग से जाने वाले 29 वाहनों को जखैनी से आगे जाने की अनुमति दी। श्रद्धालुओं को ऊधमपुर से रामबन तक पहुंचने में ही करीब 10 घंटे लग गए।

शाम करीब पौने सात बजे श्रद्धालुओं को रामबन से आगे रवाना किया गया। एसएसपी ट्रैफिक का अतिरिक्त कार्यभार संभाल रहे एससपी रामबन मोहन लाल ने बताया कि हाईवे खोल कर प्राथमिकता के आधार पर यात्रा जत्थे के वाहनों को निकाला गया।

Advertisements