सन्त कबीर के निर्वाण स्थल में मोदी का विपक्ष पर जबरदस्त हमला

Advertisements

मगहर (उत्तर प्रदेश): प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संत कबीर के आदर्शों और जीवन दर्शन को आगे रखते हुए आज विपक्षी दलों पर जबरदस्त हमला बोला। मोदी ने कहा कि कुछ दल महापुरूषों के नाम पर स्वार्थ की राजनीति कर रहे हैं और समाज को तोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। मोदी यहां मगहर में कबीर के निर्वाण स्थल के दर्शन के बाद एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे।
Yashbharat

पीएम मोदी ने कहा कि समय के लंबे कालखंड में संत कबीर के बाद रैदास आए, सैकड़ों वर्षों के बाद महात्मा फुले आए, महात्मा गांधी आए, बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर आए। समाज में फैली असमानता को दूर करने के लिए सभी ने अपने-अपने तरीके से समाज को रास्ता दिखाया। ​बाबा साहेब ने हमें देश का संविधान दिया। एक नागरिक के तौर पर सभी को बराबरी का अधिकार दिया।
Yashbharat
उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से आज इन्हीं महापुरूषों के नाम पर कुछ दल स्वार्थ की राजनीति के जरिए समाज को तोडऩे का प्रयास कर रहे हैं। कुछ दलों को समाज में शांति और विकास नहीं बल्कि कलह और अशांति चाहिए। उनको लगता है कि जितना असंतोष और अशांति का वातावरण बनाएंगे उनको उतना ही राजनीतिक लाभ होगा। लेकिन सच्चाई यह भी है कि ऐसे लोग जमीन से कट चुके हैं।
Yashbharat
मोदी ने कहा कि इन्हें अंदाजा ही नहीं है कि संत कबीर, महात्मा गांधी और बाबा साहेब को मानने वाले हमारे देश का मूल स्वभाव क्या है। कबीर कहते थे कि अपने भीतर झांकों तो सत्य मिलेगा, लेकिन इन्होंने कबीर को कभी गंभीरता से पढ़ा ही नहीं। उन्होंने कहा कि ऐसे दलों और उनके नेताओं का जनता एवं समाज के विकास पर नहीं बल्कि अपने आलीशान बंगले पर मन लगा हुआ है।
Yashbharat
उन्होंने कहा कि मुझे याद है जब गरीब और मध्यम वर्ग को घर देने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू हुई तो पहले वाली सरकार (सपा सरकार) का रवैया क्या था। हमारी सरकार ने तमाम पत्र लिखे, अनेक बार फोन पर बात की, लेकिन वो ऐसी सरकार थी जिसको अपने बंगले में रूचि थी।
Advertisements