समर्थन मूल्य खरीदी के नियमानुसार चना बिकने के 7 दिन के भीतर में पूरा भुगतान संबंधित किसान के खाते में जमा करा दिया जाएगा। चने की खरीदी 9 जून को खत्म हो गई। यानी खरीदी बंद हुए 17 दिन बीत चुके हैं। इसके बाद भी 600 से ज्यादा किसानों के 27 करोड़ रुपए से ज्यादा का भुगतान नहीं हो सका है। कई किसान तो ऐसे हैं जिनको एक महीने बाद भी भुगतान नहीं मिला है।

बड़े किसानों की बड़ी फजीहत

बड़े किसान जिनके पास जमीन ज्यादा है और उनके खेतों में चने की फसल भी बंपर हुई है ऐसे, किसान समर्थन मूल्य पर उपज बेचकर पछता रहे हैं। क्याेंकि, समर्थन मूल्य के तहत एक किसान से अधिकतम 160 क्विंटल चना ही खरीदा गया है। इस नियम का कई किसानों को पता ही नहीं था।

इस कारण किसानों का लाखों का भुगतान अटक गया है। उदाहरण ऐसे समझिए कि, तुलसेफ गांव के रामस्वरूप मीणा ने समर्थन मूल्य पर 225 क्विंटल चना सरकार को बेचा था। इसमें से सिर्फ 160 क्विंटल चने का भुगतान ही स्वीकृति हुआ है। बाकी के 65 क्विंटल चने का पैसा नहीं मिल रहा है उनका चना गोदामों में रखा गया है। यह चना अभी भी खरीद केंद्रों पर रखा है और पैसा मांगने पर किसान से कहा जा रहा है अपना 65 क्विंटल चना केन्द्र से उठाकर ले जाओ।

आधे चने का भुगतान मिला, आधे का अटका

खरीदी के अंतिम दिनों में सरकार को चना बेचने वाले किसानों को ऐसी-ऐसी मुसीबतें झेलनी पड़ रही है जिनका निराकरण बड़े अफसर भी नहीं कर पा रहे। सिरसौद गांव के किसान हीरालाल पुत्र भैरूलाल मीणा ने बड़ौदा खरीद केंद्र पर 30 मई को 40 क्विंटल चना बेचा इसके बाद 2 जून को भी 40 क्विंटल चना बेचा था।

यानी कुल 80 क्विंटल चना बेचा,लेकिन उसके खाते में 30 मई को बेचे 40 क्विंटल का पैसा आया। 2 जून के चने का पैसा अब तक खाते में नहीं आया। जब किसान हीरालाल अपनी शिकायत लेकर पहुंचा तो सोसायटी के कर्ताधर्ताओं ने कह दिया कि एक बार में चना बेचना था। दूसरी बार में ऑनलाइन फीड नहीं हुआ इसलिए अपना 40 क्विंटल चना वापस ले जाओ।

फैक्ट फाइल

-9542 किसानों ने समर्थन मूल्य पर चना बेचा है।

-28 हजार 759 मीट्रिक टन चने की खरीद हुई है।

-01 अरब 26 करोड़ 54 लाख 22 हजार रुपए का भुगतान किसानों को होना है।

-98 करोड़ 95 लाख 57 हजार रुपए का भुगतान किसानों को दिया जा चुका है।

-करीब 27 करोड़ रुपए किसानों को भुगतान होना है।

सीएम तक पहुंची यह शिकायत

सरकार को चना बेचकर संकट में आए किसानों की पीड़ा मुख्यमंत्री के कानों तक जा पहुंची है। सोमवार को किसान मोर्चा द्वारा भोपाल में किसान चौपाल आयोजित हुई। इसमें किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष महावीर सिंह मीणा ने मुख्यमंत्री को किसानों के 27 करोड़ रुपए का भुगतान न होने और 160 क्विंटल से ज्यादा चना बेचने वाले किसानों के भुगतान की समस्या बताई। श्री मीणा ने बताया कि, सीएम ने इस समस्या को जल्द हल करने का भरोसा दिया है।

इनका कहना है

25 मई को 40 क्विंटल चना बेचा था। 27 तारीख को चने के भुगतान की स्वीकृति मिल गई,लेकिन खाते मंे पैसा अब तक नहीं आया। सोसायटी पर जाओ तो बैंक भेज देते हैं बैंक से सोसायटी पर।

नाथूलाल मीणा किसान, सोंईकलां

अभी बजट की परेशानी चल रही है। इसके अलावा कुछ किसानों के खाता नंबर का मिलान नही हुआ इस कारण भुगतान रुक गया है। जल्द ही सभी किसानों के खाते में पैसा जमा करा दिया जाएगा

मातादीन दंडौतिया नोडल ऑफिसर, सहकारी बैंक श्योपुर