इंदौर। भय्यू महाराज आत्महत्या केस में पुलिस 85 प्रतिशत जांच पूर्ण कर चुकी है। इसमें आत्महत्या के पीछे पारिवारिक कलह ही सामने आया है। पुलिस आर्थिक स्थिति की भी छानबीन कर रही है। इसके लिए सीए को तलब किया गया है। भय्यू महाराज की कॉल डिटेल में भी सीए के नंबर मिले थे।

डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के मुताबिक भय्यू महाराज ने गत मंगलवार को सिल्वर स्प्रिंग्स स्थित निवास पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। पुलिस को जानकारी मिली थी कि महाराज की आर्थिक स्थिति कमजोर हो चुकी थी। कुछ दिन पूर्व 10 लाख रुपए का कर्ज भी लिया था। उन्होंने 20 लाख रुपए में ऑडी कार का सौदा भी किया था।

बेटी कुहू के लिए खरीदी मस्टैंग कार बेचने का प्रयास कर रहे थे। बेटी को लंदन भेजने के लिए आने वाले खर्च को लेकर भी चिंतित थे। मकान और कारों की किस्तें भी भरना पड़ती थीं। इन सब बातों की छानबीन भी की जा रही है। पुलिस ने सीए प्रमोद चोपड़ा (शिक्षक नगर) को तलब किया है। चोपड़ा ने पुलिस को फोन पर बताया कि वे धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने राजस्थान आए हैं। पांच दिन बाद पुलिस के समक्ष पेश होंगे।

सेवादारों की पत्नियों के भी होंगे बयान

जांच अधिकारी मनोज रत्नाकर (सीएसपी) के मुताबिक अभी तक सेवादार, नौकर, ड्राइवर, परिजन व वकील से पूछताछ हुई है। पुलिस उन सेवादारों की पत्नियों से भी पूछताछ करेगी जो बंगले पर आती-जाती थीं। कुछ महिलाएं कुहू और डॉ. आयुषी के संपर्क में थीं। उनसे भी अंदरूनी विवाद की जानकारी ली जाएगी।

बंगले में हुआ नाट्य रूपांतरण

पुलिस और फॉरेंसिक अफसरों की टीम ने सिल्वर स्प्रिंग्स वाले बंगले में दोबारा छानबीन की है। टीम ने घटना का नाट्य रूपांतरण भी किया। जिस बींस बैग पर बैठकर गोली मारी गई थी, उस जगह पड़ताल में पता चला कि गोली आरपार निकली और दीवार से टकराकर फर्श पर गिरी थी। पुलिस के मुताबिक पीएम रिपोर्ट भी मिल चुकी है। फिर भी जांच के लिए बिसरा सागर लैब भेजा गया है।

केस डायरी : 7 दिन की जांच, 20 लोगों से पूछताछ

– तेजाजी नगर पुलिस ने सात दिन की जांच के दौरान 20 से ज्यादा लोगों के बयान लिए हैं।

– मंगलवार को सुसाइड नोट की जांच के लिए हैंड राइटिंग के नमूने जुटाकर एक्सपर्ट को भेज दिए।

– जिस रिवॉल्वर से गोली मारी, उसकी जांच करवाई जा रही है।

– जिस रूम में गोली मारी, उसका मौका नक्शा तैयार किया गया।