‘सबरीमाला को थाइलैंड नहीं बनाना चाहते’, महिलाओं की मंदिर में एंट्री पर बोले बोर्ड चेयरमैन

Advertisements

केरल के ऐतिहासिक सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर रोक से संबंधित मामले को जहां सुप्रीम कोर्ट ने संविधान पीठ के पास भेज दिया है तो वहीं अब त्रावणकोर देवस्वामी बोर्ड (टीडीबी) के अध्यक्ष पी. गोपालकृष्णन ने बहुत ही चौंकाने वाला बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि वह सबरीमाला को थाइलैंड नहीं बनाना चाहते हैं। गोपालकृष्णन ने कहा है कि बोर्ड मंदिर में 10 से 50 वर्ष की महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ है और बोर्ड नहीं चाहता है कि सबरीमाला मंदिर थाइलैंड बन जाए।

उन्होंने अपनी एक टिप्पणी में कहा, ‘बोर्ड सबरीमाला को थाइलैंड नहीं बनाना चाहता। अगर कोर्ट भी उन महिलाओं को जिनको मासिक धर्म आता है, उन्हें मंदिर में प्रवेश की अनुमति दे देता है तब भी कोई स्वाभिमानी महिला पहाड़ चढ़कर मंदिर नहीं आएगी। बोर्ड मंदिर में 15 से 50 वर्ष की उम्र वाली महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ है। यह परंपरा और सुरक्षा से जुड़ा हुआ मामला है। अगर महिलाओं को पहाड़ पर चढ़कर मंदिर में प्रवेश की अनुमति मिल जाती है तो उनकी सुरक्षा के लिए महिला पुलिस को तैनात करना होगा और ऐसा करना कई अनैतिक गतिविधियों को बढ़ावा देगा।’केरल के पत्तनमतिट्टा जिले में पहाड़ पर स्थित मंदिर सबरीमाला की देखरेख का जिम्मा टीडीबी के पास है। टीडीबी के अध्यक्ष और कांग्रेस के नेता गोपालकृष्णन का कहना है कि उनकी महिलाओं से कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है, लेकिन उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बोर्ड महिलाओं को प्रवेश की अनुमति नहीं दे सकता। सीपीआई(एम) के वरिष्ठ नेता और मंदिर मामलों के मंत्री के. सुरेंद्रन ने गोपालकृष्णन के इस बयान की कड़ी आलोचना की है।

Advertisements