श्रीराम सेने प्रमुख बोले, ‘कुत्ते की मौत के लिए भी क्या मोदी जिम्मेदार हैं?’

Advertisements

नेशनल डेस्‍क। श्रीराम सेने के संस्थापक अध्यक्ष प्रमोद मुतालिक ने पत्रकार गौरी लंकेश हत्या की तुलना ‘कुत्ते की मौत’ से करके एक बार फिर विवादों को जन्म दे दिया है. इसके एक दिन पहले एसआईटी ने सेने के विजयपुरा जिले के अध्यक्ष राकेश मथ को मामले में पूछताछ के लिए बुलाया था.

एक जनसभा को संबोधित करते हुए मुतालिक ने कहा था, “कांग्रेस के शासनकाल में दो मौत कर्नाटक में हुईं और दो मौत महाराष्ट्र में हुईं, लेकिन कोई भी कांग्रेस सरकार से सवाल नहीं पूछता जबकि पीएम मोदी से लगातार सवाल पूछा जा रहा है कि वो गौरी लंकेश की मौत पर चुप क्यों हैं. क्या अगर कर्नाटक में एक कुत्ते की भी मौत होती है तो उसके लिए मोदी ज़िम्मेदार हैं?”


हालांकि, बाद में उन्होंने अपनी बात को साफ करते हए कहा कि उन्होंने गौरी लंकेश की तुलना कुत्ते से नहीं की थी. उन्होंने कहा कि गौरी लंकेश को गोली मारने वाला परशुराम वागमारे उनकी पार्टी से संबंधित नहीं है.
टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, 26 साल के वागमारे ने एसआईटी को बताया कि उसे पता नहीं था कि वो किसे गोली मार रहा है. हालांकि उसने ये भी कहा कि उसने धर्म की रक्षा के लिए ऐसा किया.

गौरी लंकेश की बहन कविता लंकेश ने नौ महीने से चल रही जांच पर प्रतिक्रिया देते हुए सीएनएन-न्यूज़ 18 को बताया, “लोगों को खुलेआम डराया और धमकाया जा रहा है. हमें पता है कि उन्हें क्यों मारा गया. पूरे सबूत उपलब्ध हैं. मेरी बहन को मारकर उन्होंने अपने धर्म की रक्षा कैसे की?”

बता दें कि ‘लंकेश पत्रिके’ की एडिटर गौरी लंकेश को पिछले साल 5 सितंबर को उनके घर के बाहर कुछ अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिस के अनुसार लंकेश के ऊपर सात गोलियां चलाई गईं थीं, जिसमें से तीन गोलियां (दो सीने में और एक माथे पर) उन्हें लगी थीं.

Advertisements