मंदसौर गोलीकांड: जैन आयोग ने सौंपी रिपोर्ट, सामने आएगा बड़ा सच!

Advertisements
Advertisements

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंदसौर में छह जून 2017 को हुए गोलीकांड की रिपोर्ट लंबे इंतजार के बाद जैन आयोग ने सरकार को रिपोर्ट सौंप दी है. बताया जा रहा है कि रिपोर्ट में पुलिस बल द्वारा गोली चलाए जाने की बात कबूली गई है और उन परिस्थितियों को भी बताया गया है, जिसकी वजह से गोली चलाने के हालात पैदा हुए. हालांकि इस रिपोर्ट के विधानसभा के मानसून सत्र में प्रस्तुत होने की संभावना बहुत कम है.
इससे पहले, मामले की जांच कर रहे जस्टिस जेके जैन के सामने गोली चलाने वाले सीआरपीएफ जवानों के बयान दर्ज हुए थे. जिसमें जवानों ने कहा था कि उन्होंने किसी के आदेश पर गोली नहीं चलाई थी, बल्कि किसान उनसे बंदूक छीन रहे थे और इसी छीना-झपटी में गोली चल गई.
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रिपोर्ट मुख्य सचिव को सौंपी गई है. मुख्य सचिव कार्यालय ने इसे सामान्य प्रशासन विभाग को दिया और उसने अब गृह विभाग को भेज दिया है. गृह विभाग इसे कैबिनेट में प्रस्तुत करेगा. कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद ही इसे विधानसभा के पटल पर रखा जा सकेगा. 25 जून से शुरू हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र में इसके पटल पर रखे जाने की संभावना कम जताई जा रही है.
गौरतलब है पिछले साल हुए किसान आंदोलन के दौरान किसान इतने हिंसक हो गए कि सरकार को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए. आंदोलन में छह किसानों की जान चली गई थी, जिसके बाद देश भर में बवाल मच गया था.
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गोलीकांड की घटना की जांच के लिए जस्टिस जेके जैन आयोग का गठन कर तीन माह में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे. न्यायिक आयोग को पता करना था कि पुलिस फ़ायरिंग सही थी या नहीं. यदि नहीं तो फिर फ़ायरिंग के लिए गुनहगार कौन है. इसके बाद जैन आयोग का कार्यकाल लगातार बढ़ता रहा.

Advertisements