Advertisements

6 हजार का था दावा, 2700 को ही मिली जॉब

जबलपुर। राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड के माध्यम से बेरोजगार युवाओं के लिए सोमवार को एमएलबी स्कूल में रोजगार मेला लगाया गया। मेले में जिला, प्रदेश समेत राष्ट्रीय कंपनियों में 6 हजार पदों पर रोजगार दिलाने का दावा था, लेकिन अमेजॉन, पेटीएम, हिंदुजा ग्रुप तैसी बड़ी कंपनियां आई ही नहीं। बड़ी कंपनियों के नहीं आने से लगभग 3 हजार पदों पर भर्ती नहीं हो सकी। वहीं दोपहर बाद हुई बारिश से भी मेला पर असर देखने मिला। हालांकि शाम होने पर 2700 युवाओं को नौकरी दिए जाने की जानकारी दी गई। इस रोजगार मेला में 62 कंपनियों की सूची जिला प्रशासन की ओर से जारी की गई थी। इनमें से 52 कंपनियां ही मेला में नौकरी के लिए युवाओं को चयनीत करने पहुंची।

फोन लगाते रह गए अधिकारी –

  • बड़ी कंपनियों के स्टाल लग चुके थे, लेकिन सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक लगभग 10 कंपनियों के प्रतिनिधि मेला स्थल पर नहीं आए। रोजगार अधिकारी से लेकर जिला प्रशासन के अधिकारी संबंधित कंपनियों के प्रतिनिधियों को फोन लगाते दिखे। उन्हें सही जवाब इन कंपनियों की तरफ से नहीं मिल सका।

6 से 12 हजार तक की मिली जॉब –

  • जिला व प्रदेश स्तर की कंपनियों ने युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया कराए। अफसरों के मुताबिक 6 से 12 हजार रुपए तक के जॉब ऑफर मिले। अधिकांश युवक-युवतियां शहर से बाहर काम नहीं करना चाहते थे। जिसके चलते इंदौर व अन्य राज्यों से पहुंची कंपनियों को कम ही युवा मिले।

जिनको मिली नौकरी वो खुश हुए –

  • मेले में 7 हजार 605 पंजीकृत बेरोजगारों से इंटरव्यू लेकर कंपनियों ने अपनी जरूरत के हिसाब से 2 हजार 735 पात्र और योग्य युवाओं को नौकरी देने संबंधी लेटर ऑफ इन्टेन्ट दिया। मेले में सुबह से ही रोजगार पाने के लिए आए युवाओं की लंबी कतार लगी थी।