Advertisements

रक्षामंत्री सीतारमण की पाक को दो टूक- सुधर जाओ वरना कहीं के नहीं रहोगे

नई दिल्लीः रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने आज प्रेस कॉन्फ्रैंस करके पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी दी। रक्षामंत्री ने कहा कि फायरिंग और बातचीत एकसाथ नहीं हो सकती। उन्होंने पड़ोसी देश को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि अगर हमें उकसाया गया तो हम मुंहतोड़ जवाब देंगे। सीतारमण ने कहा कि रमजान के पवित्र महीने को देखते हुए भारत चुप है और इस त्यौहार का हम सम्मान करता लेकिन हमारे सैनिकों के हाथ बंधे नहीं हैं। भारतीय सुरक्षा बल हर कार्रवाई के लिए तैयार हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सेना के साथ विचार-विमर्श के बाद ही नो फायरिंग का फैसला लिया गया था लेकिन पाकिस्तान अपनी हदें पार कर रहा है।  रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि सीमा पार से होने वाले बिना उकसावे के हर हमले का जवाब दिया जाना चाहिए और रक्षा बलों को जवाबी कार्रवाई की पूरी छूट दी जा रही है।
Yashbharat

राफेल सौदे में कोई घोटाला नहीं हुआ : रक्षा मंत्री
निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि फ्रांस के साथ हुए राफेल लड़ाकू विमानों के सौदे में कोई घोटाला नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि इससे जुड़े आरोप राजनीति से प्रेरित हैं। रक्षा मंत्री ने कांग्रेस का नाम लिए बगैर कहा कि भारत जिस कीमत पर लड़ाकू विमान खरीद रहा है और कुछ अन्य देश जिस कीमत पर मोल – भाव कर रहे हैं , उनमें गलत तुलना की गई। उन्होंने राफेल सौदे में घोटाला होने के आरोपों पर एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि वह आश्वस्त कर रही हैं कि राफेल में कोई घोटाला नहीं हुआ। हम इस बारे में बहुत स्पष्ट हैं।Yashbharat
सेनाओं के पास पैसे और बारूद की कमी कांग्रेस सरकार की देन
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सेनाओं के पास धन और गोला बारूद की कमी संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार की देन थी और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने बजट बढाने के साथ साथ गोला-बारूद की कमी को भी पूरा किया है।  सीतारमण ने इन रिपोर्टों का खंडन किया कि अभी मंत्रालय में धन और सेनाओं के पास गोला बारूद की कमी है। उन्होंने कहा यह सही है कि जब राजग सत्ता में आयी तो उसे इन क्षेत्रों में कमी विरासत में मिली थी लेकिन राजग सरकार ने सत्ता में आने के बाद रक्षा मंत्रालय के लिए आवंटित पूंजीगत व्यय की राशि में हर साल बढ़ोतरी की और यही नहीं उसे जरूरतों को पूरा करने में खर्च भी किया। इसीका परिणाम है कि सेनाओं के पास अब गोला बारूद का पर्याप्त भंडार है और वे किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार है।
Yashbharat

Hide Related Posts