Advertisements

बैंक मैनेजर पत्नी के आठ लाख रुपए लेकर प्रेमिका संग फरार हुआ पति

इंदौर। असिस्टेंट बैंक मैनेजर पत्नी के आठ लाख रुपए लेकर न्यूज चैनल डायरेक्टर पति प्रेमिका के साथ फरार हो गया। मेट्रोमोनियल वेबसाइट के जरिए संपर्क के बाद छह माह पहले आरोपित ने शादी की थी। मकान खरीदने के बहाने उसने पत्नी से अपने खाते में उक्त रुपए ट्रांसफर करवाए थे।

सराफा पुलिस ने नरसिंहपुर निवासी 33 वर्षीय युवती की शिकायत पर तरुण शर्मा और दुर्गा शर्मा दोनों निवासी भोपाल के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है। युवती ने बताया वह निजी बैंक में काम करती है। वर्ष 2017 में उसने ऑनलाइन वेबसाइट पर शादी के लिए इश्तेहार दिया था। दस दिन बाद आरोपित ने फोन पर उससे संपर्क किया। 26 नवंबर को वह अपनी कथित बहन दुर्गा के साथ उसे देखने आया था।

रिश्ता पक्का होने के बाद जनवरी में दोनों ने नरसिंहपुर में शादी कर ली। इसी दौरान उसका इंदौर से भोपाल ब्रांच में ट्रांसफर हो गया। दोनों वहां किराए के फ्लैट में रहने लगे। उनके साथ बहन भी रहने लगी। युवती ने पुलिस को बताया इस दौरान आरोपित ने उसे घर खरीदने का झांसा दिया और आठ लाख रुपयों की जरूरत बताई। इस पर उसने दो किस्तों में चार-चार लाख रुपए ऑनलाइन ट्रांजेक्शन कर दिए। इसके बाद आरोपित ने उस पर चरित्र शंका को लेकर आरोप लगाए और फरार हो गया।

ऑनलाइन न्यूज चैनल का बताया था डायरेक्टर

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि रिश्ता तय होने से पहले आरोपित ने उसे बताया था कि वह ऑनलाइन न्यूज चैनल का डायरेक्टर है। यू ट्यूब पर चैनल ऑनलाइन चलता है। उसने भोपाल में अपना ऑफिस खोल रखा था। उसने बताया था कि उसके माता-पिता की सड़क हादसे में मौत हो गई। बहन दुर्गा को कैंसर था। इलाज में परिवार के किसी सदस्य ने मदद नहीं की थी। इस कारण उसने परिवार से रिश्ता तोड़ दिया। वह मूल रूप से खुद को गाजियाबाद (नोयडा) निवासी बताता था। पीड़िता ने परिचितों की मदद से आरोपित की जानकारी निकाली तो पता चला कि उसके खिलाफ चंडीगढ़ में कई केस दर्ज हैं। वहां की पुलिस ने 25 हजार रुपए का उस पर इनाम घोषित किया है। वहीं दुर्गा उसकी प्रेमिका निकली। दोनो ने मिलकर कई लोगों के साथ धोखाड़ी की है।

नरसिंहपुर पुलिस ने नहीं की कार्रवाई

टीआई अविनाशसिंह सेंगर ने बताया जिस समय पीड़िता की आरोपित से मुलाकात हुई थी, उस समय पीड़िता पीपली बाजार ब्रांच में पदस्थ थी। उसने बताया कि पति की धोखाधड़ी का पता लगने के बाद उसने नरसिंहपुर पुलिस से संपर्क किया था। पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो शाहपुरा (भोपाल) थाने से संपर्क किया । भोपाल पुलिस ने शून्य पर केस दर्ज कर केस डायरी सराफा थाने में भेज दी है।