अब पशुओं के भी बनेंगे आधार कार्ड

Advertisements

सीहोर : आज के वक्त में देश में करीब-करीब सभी नागरिकों के पास आधार कार्ड मौजूद है। कोई भी सरकारी या गैर सरकारी काम को कराने के लिए आधार कार्ड का होना मान्य हो गया है। ऐसे में इंसानों के साथ-साथ पशुओं के भी आधार कार्ड बनाने की नई कवायद शुरु की गई है।

सीहार जिले में चालीस हज़ार दुधारू पशुओं के आधार कार्ड बनाए गए। पशु चिकित्सा विभाग में उप संचालक डॉ. एनपी गंगवार ने बताया कि पशुओं के आधार कार्ड बनने से पशुओं की तस्करी पर काफी हद तक लगाम लग जाएगी। जिले में पिछले करीब एक माह से दुधारू पशुओं के आधार कार्ड बनाए जा रहे हैं और अभी तक करीब 40 हजार दुधारू पशुओं के आधार कार्ड बन भी चुके हैं।

दुधारू पशुओं में मात्र गाय और भैंस ही शामिल हैं जबकि अन्य जानवरों को अभी इसमें शामिल नहीं किया गया है। आमतौर पर किसान की आय का दूसरा सबसे बड़ा साधन दुधारू पशु है। जिससे किसान और पशुपालक की रोजी रोटी चलती है। उसको ध्यान में रखते हुए सरकार ने ये कदम उठया है।

Advertisements