चुनावी साल में सरकार का अजब फैसला, भापुसे के अधिकारी आशुतोष सिंह को संचालक जनसम्पर्क बनाया, देखें आदेश

Advertisements

भोपाल। मध्यप्रदेश सरकार ने एक बड़ा फेरबदल करते हुए आईपीएस अधिकारी आशुतोष प्रताप सिंह को संचालक जनसंपर्क की जिम्मेदारी सौंपी है। यह शायद पहला मौका है जब किसी आईपीएस को संचालक की जिम्मेदारी दी गई है। उससे भी महत्वपूर्ण यह है कि आशुतोष मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भांजे दामाद हैं और होशंगाबाद में एसपी भी रह चुके हैं। दरअसल, संचालक पद को लेकर जनसंपर्क के भीतर काफी समय से घमासान चल रही थी। इस पद से अनिल माथुर रिटायर हो चुके थे, लेकिन विवाद की वजह से उन्हें लगातार सेवावृद्धि देकर बरकरार रखा हुआ था। अचानक से बदले घटनाक्रम में सरकार ने आशुतोष प्रताप सिंह को संचालक जनसंपर्क का जिम्मा दे दिया। इसके आदेश सामान्य प्रशासन विभाग ने जारी भी कर दिए हैं।

इसे भी पढ़ें-  1st December2021: आज से होने जा रहे ये बड़े बदलाव, जानें आपकी जेब पर कैसे डालेंगे असर?

हालांकि इससे पहले भी आशुतोष को जनसंपर्क में लाने की चर्चा हुई थी। लेकिन उस समय कहा गया था कि संचालक के पद पर आशुतोष की नियुक्ति होगी और आयुक्त जनसंपर्क का पद खाली छोड़ दिया जाएगा। लेकिन उसी बीच में अचानक इंदौर कलेक्टर रहे पी नरहरि को आयुक्त जनसंपर्क का जिम्मा दे दिया गया था। उसके बाद इस बात की संभावना खत्म हो गई थी कि इस पर आशुतोष को लाया जाएगा।

लेकिन अचानक मंगलवार को सरकार ने आशुतोष को यह जिम्मेदारी दे दी और अनिल माथुर को सेवा से मुक्त कर दिया। इसके पीछे की वजहें भले ही उजागर नहीं हुई हों, लेकिन कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री जनसंपर्क के भीतर अपने भरोसे के लोगों को बैठाना चाहते हैं। उन्हें चुनावी साल में दूसरे लोगों पर भरोसा नहीं हो रहा है।

Advertisements