Advertisements

अमित शाह के आरोपों के बाद कांग्रेस ने किया पलटवार

नई दिल्ली। कर्नाटक में भाजपा की सरकार गिरने के बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव के नतीजों को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने इस दौरान चुनाव में भाजपा को सबसे बड़ी पार्टी बनाने के लिए कर्नाटक की जनता को धन्यवाद दिया। वहीं कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि वो चुनाव में मिली हार में भी जीत ढूंढने की कोशिश कर रही है।

कांग्रेस के आनंद शर्मा ने दिया अमित शाह की बात का जवाब

भारतीय अध्‍यक्ष अमित शाह के प्रेस कांफ्रेंस के बाद कांग्रेस ने भी प्रेस वार्ता कर उनके आरोपों का जवाब दिया है। कांग्रेस की ओर से आनंद शर्मा का कहना है कि भाजपा ने कहा कि हमने विधायकों को बंधक बनाया लेकिन ऐसा नहीं है हमने विधायकों का अपहरण होने से रोका है। कांग्रेस ने कहा कि खिसियानी बिल्‍ली खंभा नोचे की कहावत भाजपा पर लागू हो रही है। विधायकों को पैसे के बात पर उनका कहना था इस बात की निष्‍पक्ष जांच होनी चाहिए ताकि स्थिति साफ हो सके। कांग्रेस और जेडीएस पहले भी साथ रह चुके है ऐसे में जनादेश का अपमान होने की बात कहा से आती है।

बता दें कि शाह ने कहा कि कर्नाटक में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है और बहुमत से महज 7 सीट पीछे रही। लेकिन इस चुनाव में एक चीज अच्छी हुई कि कांग्रेस का न्यायपालिका, चुनाव आयोग और ईवीएम में भरोसा बढ़ा है।

राज्य में बहुमत के लिए हॉर्स ट्रेडिंग के आरोपों पर शाह ने कहा कि यह सारे आरोप झूठे हैं। मेंडेट जनता के खिलाफ था। हमने कांग्रेस-जेडीएस के दावे से पहले सरकार बनाने का दावा किया था। हमे लगा था कि जो विधायक कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन से खफा हैं वो साथ दे सकते हैं। हम पर कांग्रेस हॉर्स ट्रेडिंग के आरोप लगा रहे हैं लेकिन वो तो पूरा अस्तबल बेच चुके हैं। अगर वो विधायकों को बंधक नहीं बनाते तो भाजपा की सरकार होती।
शाह ने कहा कि भाजपा 40 सीटों से 104 तक पहुंची। भाजपा का राज्य में वोट शेयर भी बढ़ा है राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बनाने के लिए जनता का धन्यवाद। राज्य की जनता द्वारा बड़ी पार्टी बनाने के बाद अगर हम सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करते तो यह जनता के आदेश के खिलाफ होता।

शाह ने कहा कि कांग्रेस के बड़े मंत्री हार गए वहीं जेडीएस भी उन सीटों पर जीती है जहां भाजपा का संगठन कमजोर था। जनता ने कांग्रेस को नकारा है। जेडीएस ने चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ प्रचार किया और चुनाव बाद उसके साथ हो गई। आज जब कांग्रेस-जेडीएस सरकार बना रही है तो राज्य की जनता नहीं बल्कि ये दो पार्टियां ही जश्न मना रही है।

इस दौरान शाह ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि उसने राज्य में क्षेत्रवाद, हिंदुत्व, लिंगायत जैसे मुद्दों को उठाया। दलितों को प्रचार में भड़काने का काम किया गया। चुनाव में धनबल का भी खूब उपयोग किया। कांग्रेस चुनाव में नकारी गई है तो फिर वो किस बात का जश्न मना रही है, क्या पंजाब, पुडुचेरी और परिवार कांग्रेस बनने का जश्न मना रही है।