येदियुरप्पा पहुंचे राज्यपाल से मिलने, कुमारस्वामी ने मांगा वक्त

Advertisements

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद मंगलवार को हुई मतगणना के रुझानों और नतीजों ने बहुमत पर पेंच फंसा दिया है। इसे देखते हुए इस बात पर संशय पैदा हो गया है की राज्य में किसकी सरकार होगी। भाजपा नेता येदियुरप्पा राज्यपाल से मिलने पहुंच गए हैं। माना जा रहा है कि वो सबसे बड़ी पार्टी के नेता के रूप में सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। वहीं कांग्रेस ने मौके का फायदा उठाते हुए जेडीएस को समर्थन देकर सरकार बनाने का प्रस्ताव दे दिया है जिसे जेडीएस ने मान लिया है। खबरों के अनुसार कुमारस्वामी ने कांग्रेस के मुख्यमंत्री बनने के प्रस्ताव को मान लिया है।

उन्होंने राज्यपाल को पत्र लिखकर कहा है कि उन्हें कांग्रेस ने समर्थन दिया है और इसी के आधार पर वो सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए आज शाम 5.30 बजे मिलना चाहते हैं। हालांकि, अभी राजभवन से उन्हें अपॉइंटमेंट नहीं दिया गया है। खबर यह भी है कि कुमारस्वामी 18 मई को शपथ ग्रहण करेंगे।

इसे भी पढ़ें-  वानखेड़े पर 26 आरोपों की चिट्ठी: नवाब मलिक के जारी किए पत्र में एनसीबी अफसर पर ड्रग्स रखवाने से लेकर चोरी तक के आरोप

अब तक के नतीजों और रुझानों में भाजपा को 107 सीटें मिलती दिख रही हैं और भाजपा बहुमत से काफी दूर है। वहीं कांग्रेस के खाते में 73 जबकि जेडीएस के खाते में 40 सीटें हैं। ऐसे में दोनों ने मिलकर सरकार बनाने की तैयारी की है।

वहीं ताजा स्थिति को देखते हुए अमित शाह ने जेपी नड्डा, धर्मेंद्र प्रधान और प्रकाश जावड़ेकर को तत्काल बेंगलुरु पहुंचकर सरकार बनाने की संभावनाएं तलाशने के लिए कहा है। वहीं शाह ने येदयुरप्पा को भी राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए कहा है।

इस बीच कांग्रेस नेताओं के दल को लेकर राज्यपाल से मिलने गए जी परमेश्वरा को राजभवन में प्रवेश नहीं करने दिया गया और उन्हें दरवाजे से ही लौटा दिया गया।

दूसरी तरफ जेडीएस ने कांग्रेस से गठबंधन की पुष्टि कर दी है। जेडीएस के एमएलसी सरावना ने कहा कि रूकें और देखिए, कप हमारा होगा। वहीं जेडीएस के नेता दानिश अली ने कहा कि पार्टी ने हमेशा कहा है कि कुमारस्वामी मुख्यमंत्री होंगे। नतीजों के अनुसार हम भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के लिए कुछ भी करेंगे। कांग्रेस ने समर्थन दिया है और हमने उसे मान लिया है। हम साथ मिलकर 5.30 बजे राज्यपाल से मिलने जाएंगे।

इसे भी पढ़ें-  EOW Raid : लेखापाल के निवास पर ईओडब्ल्यू का छापा, कराेड़ाें की संपत्ति के दस्तावेज मिले

राज्य में अचानक बदले इन समीकरणों के बाद दिन में शांत नजर आए एचडी देवगौड़ा के घर के बाहर अचानक गहमा-गहमी बढ़ गई है और समर्थक बड़ी संख्या में वहां पहुंच रहे हैं।

हलांकि, फिलहाल वोटों की गिनती जारी है और बहुमत का आंकड़ा ऊपर नीचे हो रहा है। कांग्रेस के सीएम उम्मीदवार सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी सीट पर चुनाव हार गए हैं वहीं बादामी सीट पर उन्हें मुश्किल से जीत नसीब हुई है। वहीं भाजपा के मुख्यमंत्री उम्मीदवार येदयुरप्पा शिकारीपुरा सीट से चुनाव जीत गए हैं। पार्टी की जीत को देखते हुए येदयुरप्पा आज तीन बजे दिल्ली रवाना होंगे।

मतगणना के दौरान आ रहे रुझानों ने पूरी भाजपा में जोश भर दिया है और बेंगलुरु से लेकर दिल्ली तक जश्न शुरू हो चुका है। बेंगलुरु में जहां पार्टी दफ्तर पर कार्यकर्ता नाचते-गाते नजर आए वहीं दिल्ली में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण को मिठाई खिलाकर जीत की बधाई दी।

इसे भी पढ़ें-  Ahoi Ashtami 2021: अहोई अष्टमी इस वर्ष धन अष्टमी के रूप में भी मनाई जाएगी, जानें क्याें

वीआईपी सीटों की बात करें तो वरुणा से सिद्दरमैया के बेटे यतींद्र आगे चल रहे हैं। दावणगेरे से मल्लिकार्जुन खड़गे के बेटे पीछे चल रहे हैं। बेल्लारी से रेड्डी बंधुओं को शुरुआती बढ़त मिल रही है। एचडी देवेगौड़ा के दोनों बेटे एचडी कुमार स्वामी रामनगर और एचडी रेवन्ना होलनर्सीपुरी आगे चल रहे हैं।

राज्य में 222 सीटों के लिए 12 मई को हुए मतदान के बाद आज चुनाव मैदान में उतरे 2654 उम्मीदवारों की तकदीर का फैसला हो रहा है। इनमें से 216 महिला उम्मीदवार हैं। मतगणना के लिए राज्य के 38 मतगणना केंद्रों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। राज्य में 55000 पुलिसकर्मी तैनात किए हैं जिनमें से 11 हजार तो सिर्फ बेंगलुरु में ही हैं।

आपको बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में मतदान के बाद आए एग्जिट पोल्स में भाजपा और कांग्रेस दोनों को ही स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था, वहीं जेडीएस को किंग मेकर के रूप में दिखाया गया था। आज देखना होगा कि यह एग्जिट पोल्स कितने सही साबित होते हैं।

Advertisements